क्यों मनाई जाती है छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती? जानिए इसका इतिहास और महत्व…

भारत में शायद ही ऐसे लोग होंगे जो छत्रपति शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj ) को नहीं जानते होंगे. वह देश के वीर सपूतों में से एक थे, जिन्हें ‘मराठा गौरव’ भी कहते हैं, और भारतीय गणराज्य के महानायक भी. वर्ष 1674 में उन्होंने पश्चिम भारत में मराठा साम्राज्य की नींव रखी थी. उन्होंने कई सालों तक मुगलों से संघर्ष किया था और उन्हें धूल चटाई थी. छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को मराठा परिवार में हुआ था.  उनके जन्मदिवस के अवसर पर ही हर साल 19 फरवरी को भारत में छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती मनाई जाती है.  यह साल इस महान मराठा की 391वीं जयंती के रूप में मनाया जा रहा है.  महाराष्ट्र सरकार ने तो इस दिन को राज्य में सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है.  

छत्रपति शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj )  को उनके अद्भुत बुद्धिबल के लिए जाना जाता था.  वह पहले भारतीय शासकों में से एक थे, जिनके बारे में कहा जाता है,  कि उन्होंने महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र की रक्षा के लिए नौसेना बल की अवधारणा को पेश किया था.  इसके अलावा सबसे खास बात ये है,  कि उन्होंने अपनी बटालियन में कई मुस्लिम सैनिकों को भी नियुक्त किया था.

छत्रपति शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj )  का नाम शिवाजी भोंसले था.  वर्ष 1674 में उन्हें औपचारिक रूप से छत्रपति या मराठा साम्राज्य के सम्राट के रूप में ताज पहनाया गया.  चूंकि उस समय फारसी भाषा का ज्यादा उपयोग होता था, लेकिन इसके बजाय शिवाजी महाराज ने अदालत और प्रशासन में मराठी और संस्कृत के उपयोग को बढ़ावा देने का फैसला किया था.  

छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती का इतिहास

छत्रपति शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj )  जयंती मनाने की शुरुआत वर्ष 1870 में पुणे में महात्मा ज्योतिराव फुले द्वारा की गई थी.  उन्होंने ही पुणे से लगभग 100 किलोमीटर दूर रायगढ़ में शिवाजी महाराज की समाधि की खोज की थी.  बाद में स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक ने जयंती मनाने की परंपरा को आगे बढ़ाया और उनके योगदान पर प्रकाश डालते हुए शिवाजी महाराज की छवि को और भी लोकप्रिय बनाया.  उन्होंने ही ब्रिटिश शासन के खिलाफ खड़े होकर शिवाजी महाराज जयंती के माध्यम से स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान लोगों को एक साथ लाने में अहम भूमिका निभाई थी.  उनका वीरता और योगदान हमेशा लोगों को हिम्मत देता रहे, इसीलिए हर साल यह जयंती मनाई जाती है.  

छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती पर क्या होता है? 

लोग शिवाजी महाराज के सम्मान में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम और जुलूस आयोजित करते हैं.  शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj )  के जीवन को दर्शाने वाले नाटक भी विभिन्न स्थानों पर आयोजित किए जाते हैं.  सरकारी अधिकारी उनके जीवन और आधुनिक भारत में उनकी प्रासंगिकता पर भाषण देते हैं.  महाराष्ट्र के लोग इसे अपना गौरव और सम्मान मानते हैं.