जयपुर में 20 साल का किलर, अब तक कर चूका है 3 मर्डर

सच छुपाये नहीं छुपता…और झूठ ज्यादा टिकता नहीं…आरोपी कितना शातिर क्यों ना लेकिन कभी न कभी उसके गुनाहों का घड़ा भर ही जाता है…ऐसे ही एक सच का खुलासा 4 साल बाद हुआ…जब राजस्थान के जयपुर से 20 साल का शातिर किलर के गुनाहों का भांडा फूटा…चलिए हम आपको बताते हैं इस शातिर किलर की गुनाहों की कहानी…दरअसल किलर रमेश यादव (Ramesh Yadav) ने 16 साल की उम्र में पहला मर्डर विनोद भूमला का किया था। मनोहरपुर थाना क्षेत्र में कुआं देवबक्स वाली ढाणी से कुछ दूर सूनसान जगह पर स्थित कुएं से विनोद की ही हडि्डयां मिली हैं। वह शाहपुरा के टोडी गांव का रहने वाला था। मनोहरपुर थाना सीआई मनीष शर्मा ने बताया कि विनोद की हत्या आपसी रंजिश में की गई थी। वह ट्रक चलाता था और गुंडागर्दी भी करता था। कुछ गुर्गे भी पाल रखे थे और विनोद भूमला नाम से गैंग भी बना ली। इलाके में भाई राज के नाम से एक और गैंग सक्रिय थी। इस गैंग का सरगना 16 साल का किशोर रमेश यादव था। जुलाई 2018 में रमेश और रतनपुरा का उसके साथी सागर चौधरी ने विनोद को बाइक से अगवा किया और मर्डर कर कुएं में फेंक गए थे।

रायसर थाना प्रभारी रामधन सांडीवाल के मुताबिक मर्डर से 20 दिन पहले विनोद की और भाई राज गैंग का आमना-सामना हुआ था। तब सागर को विनोद के गुर्गों ने जमकर पीटा और अधमरा छोड़कर भाग गए। इसी का बदला लेने के लिए रमेश और सागर ने बाद में उसकी हत्या कर दी। शव की शिनाख्त न हो और बदबू न आए, इसलिए उस पर दो कट्‌टे नमक भी डाल दिया। रमेश (Ramesh Yadav) ने दूसरा मर्डर 17 साल की उम्र में अक्टूबर 2019 में किया। 19 अक्टूबर 2019 को मनोहरपुर के एक बोलवेल से राहुल का शव मिला था। पुलिस ने आरोपियों को पकड़ा तो उस समय रमेश की उम्र 17 साल थी। इसलिए बाल सुधार गृह भेज दिया गया। बाल सुधार गृह में 003 गैंग से जुड़ा एक नाबालिग बाल अपचारी भी था अनिरुद्ध। रमेश और अनिरुद्ध के बीच बहस हुई और 18 मई 2022 को उसने अनिरुद्ध का मर्डर कर दिया। इस हत्याकांड के बाद रमेश को बाल सुधार गृह से जयपुर जेल शिफ्ट किया गया था। पूछताछ में रमेश ने जेल तोड़कर भागना, थाना मुहाना में अवैध हथियारों के साथ डकैती की साजिश, मनोहरपुर थाना इलाके में कोचिंग संचालक पर जानलेवा हमला, नकबजनी की वारदातें और विनोद भूमला के मर्डर की बात कबूल की।

37 Views