Anemia : 4 संकेत जो बता रहे हैं कि हमारे शरीर में हो रही है आयरन की कमी

The Fact India : आयरन अगर बाॅडी में ठीक हो तो “टाॅप ऑफ द वर्ल्ड” वाली फीलिंग दे सकता है, लेकिन अगर कम हो तो दयनीय यानी मिसरेबल (Miserable) भी महसूस करा सकता है। इन आश्चर्यजनक संकेतों की जांच करें जिन्हें आपको अपने आयरन लेवल्स पंप अप करने के लिए जानना जरूरी है। रोजमर्रा की जिंदगी के लिए भी पर्याप्त आयरन प्राप्त करना आवश्यक है, खासकर महिलाओं के लिए। आयरन लाल रक्त कोशिकाओं Cells का उत्पादन करने और स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली-इंम्युन सिस्टम को बनाए रखने में मदद करता है। आईये हम आपको कुछ ऐसे संकेत बताते हैं जिस से आप पता लगा सकते हैं आपके शरीर में आर्यन डेफिशियेंसी (Anemia) हैं।

1.थकान

आयरन की कमी (Anemia) पहचानने का यह सबसे काॅमन लक्षण हैं। लेकिन शायद सबसे मुश्किल भी। पता है क्यों? अमेरिकन सोसाइटी ऑफ हेमेटोलॉजी की पत्रिका, ब्लड की उप संपादक, नैन्सी बर्लिनर कहती हैं, ‘महिलाओं को थका देने वाली लाइफस्टाइल जीने और थकान महसूस करने की आदत होती है। वे अपनी थकान को कभी थकान मानती ही नहीं, न ही उन्हें थकान महसूस होती है।

हालांकि, आयरन की कमी से आपके टिशूज तक कम ऑक्सीजन पहुंचती है, इसीलिए उनका शरीर उस ऊर्जा से वंचित रह जाता है जिसकी उसे जरूरत होती है। यदि नाॅर्मल थकान भी किसी को कमजोर, चिड़चिड़ा या काॅन्सन्ट्रेट करने में दिक्कत कर रही है तो आयरन या इसकी कमी का इससे कुछ लेना-देना हो सकता है। जिन लोगों की आयरन की कमी एनीमिया में बदल जाती है उन्हें अक्सर टायर्ड ब्लड की उपाधि दे दी जाती है।

2 . अचानक ह्रदय गति बढ़ना

जरूरत से ज्यादा काम करने वाला दिल, अनियमित दिल की धड़कन, हार्ट एंलार्जमेंट यहां तक की हार्ट फेल्योर से भी पीड़ित हो सकता है। घबराने या चिंता करने से पहले पूरी बात जान लें। टेक्सास हार्ट इंस्टीट्यूट जर्नल में कार्डियोमायोपैथी और आयरन की कमी पर सुझाव देता है। यदि जानते हैं कि हार्ट प्राॅब्लम है, तो आयरन लेवल्स की जांच करवाना महत्वपूर्ण है क्योंकि आयरन की कमी (Anemia) से हार्ट प्राॅब्लम्स बिगड़ सकती हैं।

Jaggery Benefits : गुड का सेवन आपकी वेट लॉस जर्नी के लिए कैसे हैं फायदेमंद, यहां जाने

3 . एंग्जायटी

जैसे कि जीवन में तनाव की कोई कमी थी, जो आयरन की कमी इसे पूरा करेगी! क्योंकि अगर बाॅडी आयरन डेफिशिएंट होगी, तो बात-बेबात चिंता महसूस करा सकती है। डॉ. बर्लिनर कहते हैं, बाॅडी और मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी से शरीर के सिम्पथेटिक नर्वस सिस्टम (Sympathetic Nervous System) को बदल देती है। जो आपके शरीर के गैस पेडल की तरह होता है।

इसके अलावा, चूंकि आयरन की कमी दिल की धड़कन को बढ़ा सकती है या देती है, तो यह महसूस करना आसान हो जाता है कि हम चिंतित या परेशान हैं। तब भी जब कि हमारे पास रिलैक्स करने के पर्याप्त कारण मौजूद हों।

4 . मिट्टी, चाॅक या बर्फ खाने की क्रेविंग होती है

ना खाई जाने वाली चीजों को खाने की लालसा बाॅडी में आयरन डेफिशिएंसी का साइन है। जैसे मिट्टी, चाॅक, दीवार वाली सीमेंट, बर्फ आदि। डाॅ. बर्लिनर के अनुसार, महिलाओं में ज्यादातर बर्फ की क्रेविंग होती है।

28 Views