जयपुर में लगी 81 हजार पुलिस कर्मियों को कोरोना वैक्सीन की प्रथम डोज

Corona Infection

The Fact India: कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की रोकथाम के लिए प्रदेश में चल रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम के तहत अब तक राजस्थान पुलिस के 81 हजार 103 अधिकारियों व जवानों को कोरोना वैक्सीनेशन की प्रथम डोज एवं 60 हजार 821 को द्वितीय डोज लगायी जा चुकी है।

बंगाल चुनाव नतीजों के बाद राजस्थान के राजनीतिक गलियारों में घमासान: कटारिया का CM पर हमला

महानिदेशक पुलिस श्री एम एल लाठर ने बताया कि राजस्थान पुलिस के कुल 94 हजार 57 अधिकारियों  व जवानों ने वैक्सीनेशन के लिए अपना पंजीयन करवाया है। अब तक 81 हजार 103 अधिकारियों व जवानों को कोरोना वैक्सीनेशन की प्रथम डोज एवं 60 हजार 821 को द्वितीय डोज सहित कुल 1 लाख 41 हजार 924 डोज लगायी जा चुकी है।

श्री लाठर ने बताया कि अजमेर जिला पुलिस के 4079 को प्रथम एवं 2997 को द्वितीय डोज लगायी जा चुकी है। इसी प्रकार अलवर के 3343 को प्रथम 2374 को द्वितीय, बांसवाडा के 1496 को प्र्रथम व 1158 द्वितीय, बारंा के 1425 को प्रथम व 1120 को द्वितीय, बाडमेर के 1599 को प्रथम व 1294 को द्वितीय, भरतपुर के 2700 को प्रथम व 2027  को द्वितीय, भीलवाडा के 2595 को प्रथम व 2235 को द्वितीय, बीकानेर के 3428 को प्रथम व 2527 को द्वितीय, बूंदी के 1292 को प्रथम व 1151 को द्वितीय, चितौडगढ के 1801को प्रथम व 1469 को द्वितीय, चुरू के 1495 को प्रथम व 1197 को द्वितीय, दौसा के 1448 को प्रथम व 1083 द्वितीय, धौलपुर के 1773 को प्रथम व 1206 को द्वितीय, डूंगरपुर के 872 को प्रथम व 643 को द्वितीय, हनुमानगढ के 1149 को प्रथम व 644 को द्वितीय डोज लगायी जा चुकी है।

जयपुर प्रथम के 14361 को प्रथम व 11387 को द्वितीय, जयपुर द्वितीय के 1750 को प्रथम व 832 को द्वितीय, जैसलमेर के 1270  को प्रथम व 1106 को द्वितीय, जालोर के 1209 को प्रथम व 1017 को द्वितीय, झालावाड के 1605 को प्रथम व 862 को द्वितीय, झुन्झुनु के 1522 को प्रथम व 1183 को द्वितीय, जोधपुर के 6135 को प्रथम व 5131 को द्वितीय, करौली के 1209 को प्रथम व 699 को द्वितीय, कोटा के 3810 को प्रथम व 2627 को द्वितीय, नागौर के 2201 को प्रथम व 1708 को द्वितीय, पाली के 1898 को प्रथम व 1089 को द्वितीय, प्रतापगढ के 883 को प्रथम व 658 को द्वितीय, राजसंमद के 1186 को प्रथम व 940 को द्वितीय, सवाईमाधोपुर के 1410 को प्रथम व 1032 को द्वितीय, सीकर के 1882 को प्रथम व 1304 को द्वितीय, सिरोही के 1056 को प्रथम व 834 को द्वितीय, श्रीगंगानगर के 2047 को प्रथम व 1544 को द्वितीय, टोंक के 1860 को प्रथम व 1579 को द्वितीय एवं उदयपुर के 3314 को प्रथम व 2264 को द्वितीय डोज लग चुकी है।