पुलिस ने उदयपुर से किरोड़ी को जबरन किया रवाना, तो बोले- ये तानाशाही नहीं चलेगी

The Fact India: मरुधरा में तपती धोरों के बीच झीलों की नगरी उदयपुर सियासी तौर पर गरमाने को तैयार है. कल से यहां कांग्रेस का महाकुम्भ लगने जा रहा है. लिहाजा ऐसे में आज से ही कांग्रेस के दिग्गजों का मजमा लगना शुरू हो गया है. लेकिन इस मजमे के बीच एक ऐसा शख्स उदयपुर पहुंच गया जिसे देख पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया. ये कोई और नहीं बल्कि अचानक आ धमक कर आंदोलन करने वाले भाजपा सांसद किरोड़ी लाल मीणा है. जिसके बाद सरकार और ख़ुफ़िया एजेंसी अलर्ट पर है. हालांकि बाद में उन्हें फिर से जयपुर रवाना कर दिया गया.

कांग्रेस के ‘नव संकल्प’ से पहले राजस्थान समेत 15 राज्यों में बजा राज्यसभा चुनाव का बिगुल

इसी बीच किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि उदयपुर में मेरे मित्र की तीये की बैठक में बैठने के लिए आया था लेकिन राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर यहां की पुलिस ने चारों तरफ से घेर लिया है जो कि लोकतंत्र में उचित नहीं है और मुझे जबरदस्ती यहां से बाहर जाने के लिए कहा जा रहा है.. 14 मई को आठ राज्यों के आदिवासियों का धरियावद में एक सम्मेलन है. उसमें मुझे भी आमंत्रण किया है. मैं उस में शामिल होने के लिए आया हूं, मुख्यमंत्री जी लोकतंत्र में आपकी ये तानाशाही नहीं चलेगी.

ताजमहल के कमरे खोलने की याचिका पर HC की फटकार, कहा- PIL का दुरुपयोग न करें, फिर आना

दरअसल जब डॉ. किरोडी लाल मीणा होटल से रवाना नहीं हुए, तो पुलिस ने उन्हे जबरन वहां से गाडी से गाडी में बिठाया और बाद में जयपुर रवाना कर दिया. इससे पहले मीणा ने कहा कि राज्य सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है. एक जनप्रतिनिधि को इस तरह से कैसे होटल से निकाला जा सकता है.