महानवमी की जगह रामनवमी की बधाई देने पर ट्रोल हुए अखिलेश यादव, भाजपा ने कसा तंज

The Fact India: शारदीय नवरात्रि के आखिरी दिन यानी महानवमी (Mahanavami) पर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रामनवमी की बधाई दे दी. जिसके बाद क्या था ट्रोलर्स और विरोधियों ने अखिलेश को ट्रोल करना शुरू कर दिया. भाजपा नेताओं ने अखिलेश यादव को घेर लिया. हालांकि अखिलेश अकेले ऐसे नेता नहीं है जिन्होंने ऐसा किया हो बल्कि भाजपा और कांग्रेस के नेता भी रामनवमी की बधाई दे रहे हैं.

दरअसल आज पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव रामनवमी (Mahanavami) की बधाई दे बैठे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा भी ट्विटर पर यही गलती कर बैठे. हालांकि, ट्रोलिंग के बाद गलती का अहसास होने पर अखिलेश ने पुराने ट्वीट को डिलीट कर नया ट्वीट किया जिसमें महानवमी की बधाई दी. लेकिन भाजपा नेताओं इसे लपक लिया.

‘छोड़ दें किसानों का दमन’ अटल बिहारी का वीडियो शेयर कर वरुण ने BJP पर साधा निशाना

यूपी बीजेपी ने तंज कसते हुए ट्वीट करते लिखा जिस अखिलेश यादव जी को यह तक नहीं पता कि रामनवमी और महानवमी में क्या अंतर है, वो ‘राम’ और ‘परशुराम’ की बात करते हैं. जनता को मत पहनाइए ‘टोपी’, वह आप पर ज्यादा अच्छी लगती है.

हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक, रामनवमी चैत्र माह में शुक्ल पक्ष् में आती है. इस दिन भगवान राम का जन्म हुआ था. रामनवमी के साथ चैत्र नवरात्र का समापन होता है. अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक, यह पर्व मार्च-अप्रैल में आता है. वहीं, महावनमी शारदीय नवरात्र में आती है. इस दिन देवी सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है. इन्हें दुर्गा माता का नौवां अवतार कहा जाता है, जिसने महिषासुर का वध किया था. महानवमी के अगले दिन भगवान राम ने रावध वध किया था, जिसे दशहरा या विजया दशमी के रूप में मनाया जाता है.