अलवर गैंगरेप मामले में विरोध जताने पहुंची छात्राओं को कलेक्टर ने डांटा, मांगा पिता का नंबर

The Fact India: अलवर में मूकबधिर नाबालिग के साथ गैंगरेप (Alwar Gangrape) के मामले में पुलिस अब तक ना तो आरोपियों को पकड़ सकी है ना ही कोई सूराग ढूंढ पाई है. ऐसे में पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई पर कई सवाल उठ रहे है. इसी बीच शुक्रवार को इस घटना का विरोध जताने कई छात्राएं कलेक्टर के पास पहुंची. लेकिन कलेक्टर ने यहां उल्टी गंगा बहा दी. कलेक्टर ने जमकर छात्राओं को फटकार लगाई, अब इस पर एक नया विवाद शुरू हो गया है. दरअसल, कलेक्टर ने छात्राओं को डांटने वाले लहजे में कहा कि यहां पढ़ने आती हो या राजनीति करने.

पापा का नंबर मांगा

राजगढ़ की छात्रा मंजू मीणा से कलेक्टर नन्नूमल पहाड़िया ने कहा कि आपके पापा का फोन नंबर दो. इसके बाद कलेक्टर ने वहां खड़ी एडीएम सुनीता पंकज से कहा कि छात्रा के पिता से फोन पर बात करो. पूछो कि उनकी बेटी पढ़ने आई है या राजनीति करने, और भी जो बच्चियां आई हैं, उनके पापा से भी बात करो.

भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ विरोध जताने आई थी छात्राएं

राजगढ़ के एक स्कूल की कई छात्राएं मूकबधिर बालिका के साथ हुई घटना का विरोध जताने भाजपा महिला कार्यकर्ताओं के साथ पहुंची थी. उन्होंने कलेक्टर से मिलकर मांग की कि बेटी को न्याय मिलना चाहिए. अपना दर्द बयां करते हुए छात्राएं बोली की उनके साथ भी छेड़छाड़ की जाती है. इस पर कलेक्टर ने बीएससी की छात्रा से पूछा कौन- कौनसी जगह आपको दिक्कत आती है? उसकी जानकारी दें. हम वहां पुलिसकर्मी लगाकर मॉनिटरिंग कराते हैं, ताकि आपको आगे दिक्कत नहीं आए.

पिता से हुआ झगड़ा तो 5वीं मंजिल से कूदी छात्रा, बिहार ले जाने चाहते थे पिता

वीडियो सामने आने के बाद  लोगों के अलग अलग कमेंट्स आ रहे है. कुछ कलेक्टर के बयान को सही बता रहे है, तो कुछ का कहना है कि कलेक्टर बेवजह दखल दे रहे हैं. घटना के प्रति विरोध जताना आमजन का अधिकार है, जिसे कलेक्टर दबाना चाह रहे हैं.