New Labour Code : 1 जुलाई से फिर लागू हो सकता है एक और नया लेबर कोड

The Fact India : जब अचानक ही केंद्र सरकार कोई नया नियम लागू करती है, और आपको जानकारी नहीं होती है तो आपके मन में भी हलचल होती होगी, और उस नियम के बारे में जानने की इच्छा होती होगी. लेकिन क्या आपको पता है कि केंद्र सरकार 1 जुलाई से नए लेबर कोड (New Labour Code) लागू कर सकती है और इस कोड को लागू करने से आपको कितना फायदा और नुकसान  हो सकता है. तो चलिए आपको केंद्र सरकार के इस नये चौथे लेबर कोड (New Labour Code) के बारे में बता देते हैं  कि श्रमिकों के लिए इससे क्या फायदा और नुकसान होने वाला हैं. इस चौथे कोड के तहत कर्मचारियों को रोजाना 12 घंटे तक काम करना पड़ सकता है. लेकिन सबसे बड़ी बात इस नियम की यह है कि इसके तहत केवल कर्मचारियों को सप्ताह में 48 घंटे ही काम करना होगा, यानी अगर वो 1 दिन में 12 घंटे काम करते हैं तो उन्हें सप्ताह में केवल चार दिन काम करना होगा साथ ही बता दें 44 सेंट्रल लेबर एक्ट को मिलाकर ये 4 नए लेबर कोड तैयार किए गए हैं. कई कंपनियां इसकी तैयारी कर रही हैं.

Maharashtra Political Drama: शिंदे साबित होंगे? पायलट या सिंधिया

इस कोड के तहत ESIC और EPDO की सुविधाओं को बढ़ाया गया है. साथ ही इस कोड के लागू होने के बाद  वर्कर्स, गिग्स वर्कर्स, प्लेटफॉर्म वर्कर्स को भी ESIC की सुविधा मिलेगी, कर्मचारी को ग्रेच्युटी पाने के लिए पांच साल का इंतजार भी नहीं करना होगा. साथ ही इसमें PF और ग्रेच्युटी का पैसा ज्यादा कटेगा और सेलरी का पैसा कम आयेगा इस कोड के लागू होने के बाद 240 के बजाय 180 दिन काम के बाद ही लेबर छुट्टी पाने की हकदार बन जाएगी. कर्मचारी को कार्यस्थल पर चोट लगने पर कम से कम 50% मुआवजा मिलेगा लेकिन आपको बता दें कि इस बिल में ये कोई नया बदलाव नहीं हैं इससे पहले भी 2019 में इस कोड में कर्मचारियों की सीमा 100 रखी गई थी, जिसे 2020 में इसे बढ़ाकर 300 किया गया. इस कोड के तहत मजदूरों को कम से कम सैलरी देने का प्रावधान किया गया है. मंत्रालय अब चारों कोड एक साथ लागू करना चाहता हैं, नए लेबर कोड्स को लेकर सरकार का कहना हैं कि इनसे 70 साल से चल रहे ये नियम कानून बदल जाएंगे साथ ही इस नये कोड में राज्यों द्वारा भी अंतिम रूप दिया जाएगा. इसलिए राज्य भी ड्राफ्ट नियमों को अधिसूचित करने की प्रक्रिया में हैं और सलाह-मशविरा का दौर जारी है.

73 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.