राजस्थान सरकार के बाद अब ASI ने भी महाराणा प्रताप को हल्दीघाटी का युद्ध जिताया

The Fact India: राजस्थान के लिए गौरवान्वित करने वाली खबर है. लगभग 445 साल पहले राजस्थान में 21 जून 1576 को हुए ऐतिहासिक हल्दीघाटी युद्ध में महाराणा प्रताप की विजय को भारतीय पुरात्तव विभाग (ASI) ने भी मान लिया है.  दरअसल, माना जाता था कि ये युद्ध प्रताप अकबर से हार थे. पर पहले राजस्थान सरकार ने और अब भारतीय पुरात्तव विभाग ने मान लिया है की महाराणा प्रताप ने हल्दीघाटी के युद्ध में मुगलों को हराया था और इसी चीज को ध्यान में रखते हुए हल्दीघाटी और राजसमंद के बादशाही बाग में भारतीय पुरातत्व विभाग की तरफ से रक्ततलाई में लगाया गया शिलापट्ट हटाया जाएगा. इस शिलापट्ट में हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप का पीछे हटना बताया गया है. हालांकि इस शिलापट्ट में लिखे शब्दों को कुछ लोगों ने बदल दिया है. अब एएसआई  इस शीलापट्ट को ही हटाने जा रहा है.

बीजेपी ने किया था स्कूलों के सिलेबस में बदलाव

BJP ने राज्य में अपनी सरकार के दौरान स्कूलों के सिलेबस में बदलाव किया था और प्रताप को हल्दीघाटी में विजयी बताया था. दरअसल, उदयपुर के राजस्थान विद्यापीठ विश्वविद्यालय के मीरा कन्या महाविद्यालय के एक प्रोफेसर डाक्टर चंद्रशेखर शर्मा ने एक शोध किया था. इस शोध में उन्होंने पाया था कि हल्दीघाटी की 18 जून 1576 की लड़ाई में महराणा प्रताप ने अकबर को हराया था. डॉ. शर्मा ने अपने रिसर्च में प्रताप की जीत के पक्ष में ताम्र पत्रों के प्रमाण जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ विश्वविद्यालय में जमा कराए थे. शर्मा की खोज के अनुसार युद्ध के बाद अगले एक साल तक महाराणा प्रताप ने हल्दीघाटी के आस-पास के गांवों की जमीनों के पट्टे ताम्र पत्र के रूप में बांटे थे जिन पर एकलिंगनाथ के दीवान प्रताप के हस्ताक्षर थे. ऐसे में प्रताप हल्दीघाटी  का युद्ध हार ही नहीं सकते क्यूंकि युद्ध के बाद वे पट्टे बांटे गए जिनपर उनके हस्ताक्षर थे. इस शोध के बाद राजस्थान सरकार ने मान लिया था कि महाराणा प्रताप हल्दीघाटी युद्ध में विजयी थे और स्कूल के सिलेबस में भी बदलाव कर दिए गए.

पूनिया का अलवर में हुआ जबरदस्त स्वागत, वसुंधरा राजे के पोस्टर भी आए नजर

BJP की मांग पर ASI ने भी माना

जयपुर राजघराना के पूर्व सदस्य और राजसमंद से सांसद दीया कुमारी इसके लिए केंद्र सरकार से लगातार मांग कर रही थीं. इसके बाद संस्कृति राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा है कि इस दिशा में आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया को आदेश जारी कर दिए गए हैं. एएसआई (ASI) के जोधपुर रीज़न के प्रभारी अधीक्षक विपिन चंद्र नेगी ने कहा कि कहा कि इस दिशा में जल्द ही कदम उठाया जाएगा.

राजस्थान सरकार के टूरिज्म विभाग को इस बारे में निर्देशित किया जाएगा कि गाइड भी सैलानियों को यह नहीं बताएं कि महाराणा प्रताप की सेना हल्दीघाटी युद्ध में पीछे हटी थी.