संजू सैमसन के सामने बड़ी चुनौती, विदेशी खिलाड़ियों पर ही निर्भर है राजस्थान रॉयल्स

Rajasthan Royals

The Fact India: साल 2008 में जब इंडियन प्रीमियर लीग की शुरुआत हुई थी तो पहली बार शेन वॉर्न की कप्तानी में इस टीम (Rajasthan Royals) ने खिताब जीता था, लेकिन उसके बाद इस टीम का प्रदर्शन निरंतर गिरता चला गया और ये टीम दूसरी बार खिताब नहीं जीत पाई। पिछले सीजन में ये टीम स्टीव स्मिथ की कप्तानी में आखिरी पायदान पर रही तो स्मिथ से कप्तानी छीन ली गई और उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इस सीजन के लिए टीम की कप्तानी संजू सैमसन के हाथों में सौंप दी गई। अब संजू सैमसन के सामने बड़ी चुनौती है कि क्या वो आर आर को दोबारा खिताब दिला पाने में सफल हो पाएँगे।

टीम का मजबूत पक्ष

राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के मजबूत पक्ष की बात करें तो उनके पास कई आक्रामक बल्लेबाज हैं। जोस बटलर और बेन स्टोक्स के रूप में टीम के पास दो मैच विजेता खिलाड़ी हैं जबकि संजू सैमसन में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है।टीम के पास दक्षिण अफ्रीका के डेविड मिलर और क्रिस मौरिस के रूप में दो आक्रामक बल्लेबाज हैं। इंग्लैंड के टी20 विशेषज्ञ लियाम लिविंगस्टोन भी मैच का रुख बदलने में सक्षम हैं। पिछले सीजन में शानदार प्रदर्शन करने वाले आलराउंडर राहुल तेवतिया ने बड़े शॉट खेलने की अपनी क्षमता दिखाई है। कुमार संगकारा के रूप में रॉयल्स के पास एक मजबूत रणनीतिकार है जिनके पास बांटने के लिए काफी क्रिकेट अनुभव है। संगकारा टीम के साथ इसी साल जुड़े हैं।

टीम का कमजोर पक्ष
इस टीम (Rajasthan Royals) के पास कोई बड़ा भारतीय नाम नहीं है इस वजह से टीम ज्यादातर अपने विदेशी खिलाड़ियों पर ही निर्भर रही है। यही नहीं टीम में मौजूद घरेलू खिलाड़ियों के प्रदर्शन में भी निरंतरता का अभाव रहा है। संजू सैमसन शानदार खिलाड़ी हैं, लेकिन उनका भी वही हाल है। वो कुछ मैच में अच्छा खेलने के बाद पूरी तरह से लय से भटक जाते हैं। वहीं अब वो टीम के कप्तान बन गए हैं और उनके पास कप्तानी का ज्यादा अनुभव नहीं है ऐसे में हो सकता है उनकी बल्लेबाजी पर और भी इसका ज्यादा असर पड़े।

टीम की गेंदबाजी
इस टीम (Rajasthan Royals) की गेंदबाजी आक्रमण ज्यादातर जोफ्रा आर्चर पर निर्भर है, लेकिन उनकी कमी पूरी करने के लिए टीम में क्रिस मौरिस को लाया गया है, लेकिन अन्य गेंदबाजों को कोई ज्यादा प्रभावी नाम नहीं दिख रहा है। जयदेव उनादकट अपने दाम के हिसाब से प्रदर्शन कर नहीं पाए हैं तो वहीं इस बार टीम मुस्ताफिजुर रहमान व कुलदीप यादव से उम्मीद कर सकती है।

आइपीएल 2021 के लिए राजस्थान की टीम-
संजू सैमसन (कप्तान), जोस बटलर, बेन स्टोक्स, यशस्वी जायसवाल, मनन वोहरा, अनुज रावत, रियान पराग, डेविड मिलर, राहुल तेवतिया, महिपाल लोमरोर, श्रेयस गोपाल, मयंक मारकंडेय, जोफ्रा आर्चर, एंड्रयू टाइ, जयदेव उनादकट, कार्तिक त्यागी, शिवम दुबे, क्रिस मौरिस, मुस्ताफिजुर रहमान, चेतन सकारिया, केसी करियप्पा, लियाम लिविंगस्टोन, कुलदीप यादव और आकाश सिंह।