जयपुर में हुई भाजपा कोर कमेटी की बैठक,सामने आई ये दिलचस्प तस्वीर

The Fact India: मंगलवार को भाजपा की कोर कमेटी (Core Committee) की बैठक हुई. इस बैठक में सबसे दिलचस्प बात यह भी रही कि राजे को बैठक में पहुंचने में देर हुई तो थोड़ी इंतज़ार करने के बाद राजे के बगैर ही बैठक शुरू कर दी गई. दरअसल वसुंधरा राजे सड़क मार्ग से दिल्ली से जयपुर पहुंची. इस दौरान जगह जगह राजे का स्वागत किया गया. हालांकि राजे के पहुंचने के बाद बैठक कुछ देर और चली. 

वहीं इसी बीच एक दिलचस्प तस्वीर भी देखने को मिली. जब राजे की गाडी भाजपा मुख्यालय पहुंची. दरअसल,वसुंधरा राजे के आने पर भी सतीश पूनिया की गाड़ी पोर्च से नहीं हटी. यहां तक कि राजे के स्टाफ ने पहले पहुंच कर पूनिया के ड्राइवर से की गाड़ी हटाने की भी गुजारिश की थी. हालांकि पूनिया की गाड़ी आमतौर पर कार्यालय के पोर्च में खड़ी होती है. लेकिन इसके बावजूद सियासी गलियारे में कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई.

चूरू महापंचायत में टिकैत ने कहा- हल चलाने वाले हाथ नहीं जोड़ेंगे

दिल्ली से जयपुर आने के दौरान बहरोड़ में वसुंधरा राजे ने कांग्रेस पर हमला बोलने के साथ साथ इशारों इशारों में विरोधियों पर भी निशाना साधा. राजे ने बयान दिया कि जो हमारे खिलाफ, पार्टी के खिलाफ काम कर रहा है, उन्हें उखाड़ फेंकने का काम करना है, ये अलवर सिंह द्वार है, राजस्थान में यहीं से प्रवेश मिलता है, अभी 3 साल हैं, लड़ाई लड़नी है. वसुंधरा राजे के इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे. कहा जा रहा है कि राजे ने इससे एक तीर से दो निशाने साधे हैं. राजे ने एक ओर अपने विरोधियों को टूक सन्देश दे दिया है तो वहीं ये भी साफ है कि भाजपा आगामी तीन साल विपक्ष में रह कर ही भाजपा कांग्रेस से मुकाबला करेगी.

कोर ग्रुप (Core Committee) की बैठक में विधानसभा उपचुनावों में पार्टी की रणनीति पर चर्चा के साथ-साथ विधानसभा के बजट सत्र में सरकार को अलग-अलग मुद्दों पर घेरने को लेकर भी रणनीति बनाई गई. केंद्रीय नेतृत्व की ओर से साफ लफ्जों गुटबाजी को पूरी तरह से खत्म करने के निर्देश हैं. लिहाजा इस बैठक में सभी नेताओं को मौजूद रहने के लिए कहा गया था. क्योंकि 4 उपचुनाव वाली सीटों में भी पार्टी को गुटबाजी के कारण भितरघात से नुकसान का खतरा है.