अलवर नगर परिषद सभापति और बेटा गिरफ्तार, 80 हजार रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार

The Fact India: राजस्थान कांग्रेस नेता व अलवर नगर परिषद की चेयरमैन बीना गुप्ता और उनके बेटे कुलदीप गुप्ता को ACB ने सोमवार को रिश्वत (Bribe case) लेते हुए गिरफ्तार किया. सभापति गुप्ता ने खुद के घर पर ऑक्शनर से रिश्वत मांगी थी. रिश्वत के रूप में 3 लाख 50 हजार रुपए देना तय हुआ. करीब 1 लाख 35 हजार रुपए पहले ही  दिए जा चुके थे. जिसके बाद अब 80 हजार रुपए लेते हुए गिरफ्तार किए गए हैं.

दुकानों का ऑक्शन करने वाले से कमीशन

शिकायतकर्ता मोहनलाल ने एसीबी को करीब सवा महीने पहले शिकायत करी थी कि वह नगर परिषद में ऑक्शनर है. परिषद की अस्थायी जगह पर दुकान लगाने के ठेके देता है. इसके अलावा प्रचार-प्रसार के काम करता है. इसके लिए परिषद की ओर से उसे 2 % कमीशन मिलता है. सभापति बीना गुप्ता इस कमीशन की राशि में से 50% रिश्वत मांगती हैं.

साथ ही शिकायतकर्ता ने बताया था कि उसके काम के एवज में मिलने वाली राशि तभी मिलेगी जब वह सभापति को रिश्वत देगा. एसीबी ने करीब 1 महीने पहले शिकायत का सत्यापन कर लिया था. उसका सत्यापन होने के बाद ACB ने सोमवार को अलवर शहर में अशोका टॉकीज के पास गाय वाले मोहल्ले में बीना गुप्ता को उसके घर पर ट्रैप किया.

रिश्वत की राशि देते समय दोनों से बात

ACB के एएसपी बजरंग सिंह से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार शाम करीब साढ़े चार बजे रिश्वत की राशि देते समय सभापति और उसके बेटे कुलदीप दोनों से बात हुई. फिर रिश्वत के 1 लाख रुपए दिए गए. इसमें से 20 हजार रुपए वापस कर दिए. कुल 80 हजार रुपए रख लिए गए. इसके तुरंत बाद ACB ने रिश्वत की राशि के साथ दोनों को ट्रैप कर गिरफ्तार कर लिया.

लॉरेंस गैंग के बदमाश का पाकिस्तानी लिंक, फेसबुक से बेच रहा हथियार

गोल्ड भी मिला

ACB ने अभी सभापति के घर पर सम्पति व नकदी मिलने की जानकारी नहीं दी है. जानकारी के मुताबिक घर में बड़ी मात्रा में सोना मिला है. इसके अलावा प्रॉपर्टी के दस्तावेज भी मिले हैं. फ़िलहाल जांच जारी है.

एक टीम जयपुर से

ACB की जयपुर की टीम कार्रवाई करने पहुंची. साथ में अलवर ACB की टीम के अधिकारी भी मौजूद रहे. एसीबी के अधिकारियों को करीब सवा महीने पहले शिकायत मिली थी. अब ट्रैप किया गया. संभव है कि मंगलवार को सभापति व उसके बेटे को कोर्ट में पेश किया जाएगा. इसके बाद जेल भेजा जा सकता है. ACB की कार्रवाई के दौरान घर के बाहर भीड़ जुट गई थी.