चंद्रशेखर रावण का गठबंधन से पलट जाना कोई साजिश लगती है- अखिलेश यादव

The Fact India: अखिलेश यादव ने चंद्रशेखर आजाद रावण की पार्टी से गठबंधन न होने को लेकर कहा कि इसके पीछे कोई सियासी साजिश नजर आती है. अखिलेश यादव(Akhilesh Yadav) ने लखनऊ में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि दो विधानसभा सीटें देने की बात कही थी. मेरे से मुलाकात के दौरान वह इस पर पूर्ण रूप से राजी हो गए थे. लेकिन फिर बाहर आकर उन्होंने पता नहीं कहां बात की और कहा कि हम दो सीटों पर चुनाव नहीं लड़ सकते. दिल्ली में बात की या फिर कहां बात की, पता नहीं. अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तरप्रदेश चुनाव के लिए बड़ी-बड़ी साजिशें हो रही हैं.

…तो घिर गए अखिलेश यादव, सपा की मान्यता खत्म करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी

भाजपा को हराने के लिए जो त्याग करना होगा करेंगे

अखिलेश यादव(Akhilesh Yadav) ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी ने अपने गठबंधन में लोगों को साथ लेने के लिए त्याग किया है. पार्टी भाजपा को हराने के लिए जो भी त्याग जरूरी होगा करेगी. मैंने चंद्रशेखर जी को सीटें दी थीं. यदि वह भाई बनकर मदद करना चाहें तो करें. इतिहास भी उठाकर देखो तो पता लगेगा कि डॉ. भीमराव आंबेडकर जी और डॉ. राम मनोहर लोहिया साथ मिलकर काम करना चाहते हैं. पहली बार सदन में कांशीराम जी को हमारे गृह जनपद इटावा से भेजा गया था. इसलिए हमारी मंशा साफ है और हम सभी को साथ लेने के लिए तैयार हैं.

नरेश टिकैत और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान की मुलाकात ने बढ़ा दी पश्चिमी यूपी की सियासी तपिश

भाजपा के मेनिफेस्टो के बाद सपा रिलीज करेगी घोषणापत्र

समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र के बारे में पूछने पर अखिलेश यादव(Akhilesh Yadav) ने कहा कि हम भाजपा के बाद अपना मेनिफेस्टो रिलीज करेंगे. पहले भाजपा यह बताए कि उनके राज में सूबे के कितने शहर स्मार्ट सिटी बन गए हैं. अखिलेश यादव ने किसानों को लेकर भी कहा कि हम उनके हितों के लिए पूरे प्रयास करेंगे. अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी और हमारे गठबंधन के साथियों ने संकल्प लिया है कि किसानों पर अत्याचार करने वाली भाजपा को हटाएंगे.