Delhi Election: आज थम जायेंगे प्रचार के पहिये, वोटिंग के लिये तैयार है दिल्ली

Delhi Elaction

The Fact India: विधानसभा चुनाव (Delhi Election) प्रचार पर आज शाम 5 बजे विराम लग जाएगा। दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय ने मतदान से जुड़ी तमाम तैयारियां पूरी कर ली हैं। नई सरकार चुनने के लिए दिल्ली के मतदाता तैयार हैं। 8 फरवरी को मतदान होगा। इसके लिए 2689 स्थानों पर 13750 मतदान केंद्र बनाए जा रहे हैं। 

मोदी सरकार ने ट्रस्ट के कामकाज के लिए तय किए नियम

चुनाव कराने के लिए निर्वाचन कार्यालय लगभग 70 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। सुबह 8 से शाम 6 बजे तक मतदान (Delhi Election) किया जा सकेगा। 11 फरवरी को नतीजे घोषित किए जाएंगे। हर विधानसभा में एक आदर्श मतदान केंद्र स्थापित किया जा रहा है। अबकी बार दिल्ली के दबंग वोटर के लिए क्या होगा खास? इस पर खास रिपोर्ट :

ऐसा होगा आदर्श मतदान केंद्र
मतदान केंद्रों (Delhi Election) पर लोगों को आकर्षित करने के लिए 70 मॉडल मतदान केंद्र (प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में एक) स्थापित किए जा रहे हैं। यहां पर मेडिकल किट, क्रेच, रैंप, व्हीलचेयर आदि उपलब्ध रहेगा। प्रत्येक बूथ को सुसज्जित कर उन्हें हर लिहाज से आकर्षक बनाया जाएगा। यहां महिला स्टाफ की तैनाती होगी। इसे पिंक बूथ भी कहा जाएगा। 

Delhi Election: ये सियासी सूरमा अपने ही परिवार का वोट नहीं ले पाएंगे

बुजुर्गों के लिए खास व्यवस्था
बुजुर्गों को लाने ले जाने की सुविधा प्रदान की जाएगी। एक मतदान अधिकारी को विशेष रूप से 100 वर्ष से अधिक के मतदाता के लिए नामित किया जाएगा। उस अधिकारी की जिम्मेदारी ऐसे मतदाताओं के घर से लाकर उन्हें मतदान (Delhi Election) के बाद सुरक्षित घर तक पहुंचाने की होगी। 80 वर्ष या उससे अधिक आयु के दिल्ली में 204830 मतदाता हैं, इनमें से जिनकी उम्र 100 या उससे अधिक है उनकी संख्या 147 है।

हर जिले में दिव्यांगों के लिए होगा एक बूथ
दिव्यांग मतदाताओं (Delhi Election) के लिए हर जिले में एक बूथ तैयार किया जा रहा है। 11 बूथ ऐसे होंगे जहां सभी कर्मचारी से लेकर सुरक्षा जवान तक दिव्यांग होंगे। यहां दिव्यांग मतदाताओं के लिए अलग से इंतजाम किए गए हैं। इन 11 बूथ पर मतदाताओं को अद्भुत तकनीक का अनुभव होगा।
यहां क्यू आर कोड से मतदान हो सकेगा। फोटो वोटर पर्ची पर ये क्यूआर कोड अंकित होगा। दिल्ली में दिव्यांग मतदाता 50473 हैं, जबकि 4763 दृष्टिहीन मतदाता हैं। इनके लिए ब्रेल एपिक जारी किए हैं। दिव्यांग मतदाताओं के लिए 85 साइन लैंग्वेज इंटरप्रेटर होंगे। 

Delhi Election: गृहमंत्री बांट रहे हैं घर-घर पर्चा, प्रतिष्ठा पर लगा प्रश्नचिंह

एक लाख से ज्यादा कर्मचारी कराएंगे मतदान स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव (Delhi Election) के लिए बड़े पैमाने पर संसाधन जुटाए गए हैं। एक लाख से अधिक मतदान अधिकारी और कर्मचारी पूरी चुनावी प्रक्रिया की देखरेख करेंगे। सुरक्षा के लिए अर्द्घसैनिक बल की 190 कंपनियां, 3800 दिल्ली पुलिस और 19000 होमगार्ड तैनात किए जाएंगे। दिल्ली में करीब 3 हजार से ज्यादा संवेदनशील बूथ हैं, जहां सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए हैं। 

कुल मतदाता : 1,47,86,382
पुरुष : 81,05,236
महिला : 66,80,277
थर्ड जेंडर : 869

फैक्ट्स :
. सबसे अधिक मतदाताओं वाली विधानसभा सीट : मटियाला (4,23,682 मतदाता)
. सबसे कम मतदाताओं वाली सीट : चांदनी चौक (1,25,684 मतदाता)
. लोकसभा चुनाव के बाद बढ़े मतदाता : चार लाख 69 हजार 929 . 18 से 19 वर्ष के बीच फर्स्ट टाइम वोटर : 2,32,815 . सेवा मतदाता : 11,608
कुल मतदान बूथ : 13,750
संवेदनशील बूथ : 3841
मतगणना केंद्र : 27

सोमवार तक बंद रहेंगे कई स्कूल दिल्ली में आठ फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव (Delhi Election) को देखते हुए सरकारी, सहायता प्राप्त और निजी स्कूल छह से आठ फरवरी तक बंद रहेंगे, जबकि नौ फरवरी को रविवार है। यानी, सोमवार को ही स्कूल खुल पाएंगे। यह वह स्कूल हैं जिन्हें मतदान केंद्र के रूप में चिह्नित किया गया है।

हालांकि, शिक्षा निदेशायल ने इन स्कूलों को छह और सात फरवरी को बंद करने के निर्देश दिए हैं, लेकिन चुनाव (Delhi Election) को देखते हुए  आठ फरवरी को भी स्कूल बंद रहेंगे।इन स्कूलों को मतदान केंद्र बनाने के लिए छह फरवरी की सुबह ही स्थानीय निकायों को सौंप दिया जाएगा। इससे चुनाव के काम में बाधा नहीं आएगी और चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों को स्कूल आने-जाने में आसानी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.