बढ़ रहा डेंगू का खतरा, हेल्दी डाइट और योग से करें खुद का और परिवार का बचाव

The Fact India: मानसून के मौसम में कई बीमारियां पनपने लगती है. इस मौसम की सबसे कॉमन बीमारी है डेंगू, मलेरिया. इसके अलावा भी इस मौसम में कई स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता हैं. हर साल डेंगू का प्रकोप कई लोगों की जान ले लेता हैं. अधिक संख्या में मच्छरों के आसपास होने के अलावा, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होना भी डेंगू के संक्रमण का कारण है. डेंगू (Dengue) के सामान्य लक्षणों में शरीर में दर्द, तेज बुखार, थकान, उल्टी, मसूडे या नाक से हल्की ब्लीडिंग और त्वचा पर चकत्ते आदि शामिल है. ऐसे में खुद को और अपने परिवार को डेंगू से बचाने के लिए जरुरी है कि शरीर को अंदर से भी तंदरुस्त रखा जाए. आप अपनी डाइट में कुछ ऐसी चीजे शामिल कर सकते हैं जो डेंगू के इंफेक्शन से बचाने में मदद करती हैं.

पानी पीना सबसे जरुरी

पानी पीने के बहुत से फायदे होते है. यह शरीर को फिट भी रखता है और साथ ही संक्रमण को रोकने के लिए सबसे प्रभावी भी होता है. यह शरीर को स्वस्थ रखने का सबसे सरल तरीका भी है. दिनभर में खुद को संक्रमण से बचाने के लिए खूब पानी पिएं. इससे यूरीन के जरिए आपके शरीर से टॉक्सिक (Dengue) पदार्थ भी बाहर निकल जाते हैं.

इम्यूनिटी ड्रिंक रहेगी मददगार

आप घर पर इम्यूनिटी बढ़ाने वाले ड्रिंक को आसानी से तैयार कर सकते है. इसके लिए आपको बस एक ग्लास दूध में थोड़ा पानी, चुटकी भर हल्दी, केसर के 2-3 धागे और थोड़ा सा जायफल मिक्स करके उसे इम्यूनिटी बूस्टर ड्रिंक के तौर पर इस्तेमाल करना है. अगर ड्रिंक को टेस्टी बनाना है तो इसमें आप गुड़ का भी इस्तेमाल कर सकते है. इस ड्रिंक को आप गर्म और ठंडा किसी भी रुप में इस्तेमाल कर सकते हैं. ये शरीर में प्रोटीन के नुकसान और सूजन को कम करने में मदद करता हैं.

चावल का सूप

चावल के सूप को चावल कांजी या पेज के नाम से भी जाना जाता है. चावल के सूप में हींग, काला नमक और घी डालकर इसे ले सकते है. ये भूख में सुधार और डिहाइड्रेशन की समस्या को ठीक करता हैं. इसके अलावा चावल का सूप इलेक्ट्रोलाइट्स बैलेंस बनाने में मदद करता हैं.

Ganesh Chaturthi: बप्पा का धूमधाम से करें स्वागत, जानिए पूजा के समय किन बातों का रखना है ख्याल

करें ये योगासन

सुप्त बद्ध कोणासन ऐसा योग है जो शरीर के दर्द, किडनी और प्रोस्टेट ग्रंथी के साथ कई अन्य समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है. इस आसन के लिए पैरों के तलवों को आपस में जोड़े और पीठ के बल लेट जाए. इस तरह से ये आसान किया जाता है.