गुजरात भाजपा में मची कलह, आखिरकार टालना पड़ गया मंत्रिमंडल विस्तार

The Fact India: गुजरात में भाजपा नया मुख्यमंत्री बनाने के बाद अब शायद पूरी सरकार को ही नया कलेवर देने की तैयारी में है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी ने 90 फीसदी के करीब मंत्रियों को बदलने की तैयारी कर ली है. इसके चलते तमाम दिग्गज नेता नाराज बताए जा रहे हैं और आपसी सहमति न बन पाने की वजह से शपथ ग्रहण समारोह को ही टाल दिया गया है. अब भूपेंद्र पटेल(Bhupendra Patel) के मंत्रियों का शपथ ग्रहण समारोह गुरुवार को दोपहर को 1:30 बजे होगा, जो आज ही दोपहर दो बजे होने वाला था. आज नाराज नेता पूर्व सीएम विजय रूपाणी के घर पहुंचे और नई सरकार में मंत्री न बनाए जाने को लेकर विरोध दर्ज कराया. फिलहाल पार्टी में मंथन जारी है और इस बीच समय लेते हुए शपथ समारोह को ही टाल दिया गया है.

CM की कुर्सी से बीएस येदियुरप्पा को हटाने वाली भाजपा अब क्यों डरी?

राजभवन ने की मंत्रिमंडल विस्तार टालने की पुष्टि

गुजरात भाजपा के प्रवक्ता ने सुबह ही ऐलान कर दिया था कि आज दोपहर 2 बजे मंत्रियों का शपथ समारोह होगा. यहां तक कि राजभवन में भी 15 सितंबर को शपथ समारोह के पोस्टर लग गए थे, जिन्हें दोपहर होने तक हटा लिया गया है. राज्यपाल के दफ्तर ने भी शपथ समारोह को एक दिन के लिए टाले जाने की पुष्टि की है. गवनर्र आचार्य देवव्रत के ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी मनीष भारद्वाज ने कहा कि मंत्रियों का शपथ समारोह गुरुवार को दोपहर 1:30 बजे होगा. इससे पहले सुबह पार्टी प्रवक्ता यामल व्यास ने कहा था कि गांधीनगर में दोपहर 2 बजे मंत्रियों का शपथ समारोह होगा. कार्यक्रम को टालने को लेकर न तो बीजेपी और न ही सरकार की ओर से कोई वजह बताई गई है.

भाजपा के ‘चाचा जान’ असदुद्दीन ओवैसी कर चुके हैं यूपी में एंट्री- टिकैत

मंत्रियों के नामों के लेकर मैराथन बैठक जारी

गुजरात बीजेपी के प्रभारी भूपेंद्र यादव बीते दो दिनों से गांधी नगर में डटे हैं और नए मंत्रियों के नाम फाइल करने के लिए मैराथन बैठकें कर रहे हैं. चर्चा है कि भूपेंद्र पटेल(Bhupendra Patel) बड़ी संख्या में पुराने मंत्रियों को हटाना चाहते हैं और नए चेहरों को एंट्री मिल सकती है. शनिवार को विजय रूपाणी के इस्तीफे के बाद भूपेंद्र पटेल ने सोमवार को अकेले ही सीएम पद की शपथ ली थी. उनके साथ किसी मंत्री को शपथ नहीं दिलाई गई थी. इसी से साफ था कि मंत्रियों के नाम पर अभी मंथन चल रहा है और किसी बड़े बदलाव को अमलीजामा पहनाया जा सकता है.