चुनावी रैलियों पर चुनाव आयोग की रोक जारी, 22 जनवरी तक नहीं होंगी सभाएं

Election Commission
Election Commission

The Fact India: चुनाव आयोग(Election Commission) ने आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर रैलियों और जनसभाओं पर लगी रोक को 22 जनवरी तक के लिए बढ़ा दिया है. गौरतलब है कि पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में अगले महीने से होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए आयोग ने फिजिकल रैली आयोजित करने पर 15 जनवरी तक रोक लगा रखी थी. आयोग का कहना था कि 15 जनवरी को कोरोना महामारी पर समीक्षा की जाएगी उसके बाद कोई निर्णय लिया जाएगा. लिहाजा आयोग ने 22 जनवरी तक फिर इस रोक को आगे बढ़ा दिया है.  हालांकि आयोग ने राजनीतिक दलों को यह रियायत दी है कि अधिकतम 300 व्यक्तियों की भागीदारी या हॉल क्षमता के 50 प्रतिशत या राज्य आपदा प्रबंधन अधिकारियों द्वारा निर्धारित सीमा के तहत बंद स्थानों पर बैठकें आयोजित की जा सकती हैं.

पंजाब: कांग्रेस ने 86 उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी, सिद्धू और चन्नी की सीट तय

समीक्षा बैठक के बाद आयोग ने लिया फैसला

जानकारी के मुताबिक चुनाव आयोग(Election Commission) ने शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों और सभी पांच राज्यों के मुख्य चुनाव अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. अधिकारियों ने देश में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति और पांचों चुनावी राज्यों में इसके ट्रेंड को देखते हुए स्थिति की समीक्षा के बाद निर्देश दिया गया है कि 22 जनवरी तक रोड शो, पदयात्रा, साइकिल/बाइक रैली पर रोक जारी रहेगी. समीक्षा करने के बाद आयोग आगे का निर्देश जारी करेगा.

गोरखपुर से टिकट देकर बीजेपी ने सीएम योगी को पहले ही घर भेज दिया- अखिलेश यादव

कोरोना के कायदों की हो विधिवत पालना- आयोग

जानकारी के मुताबिक किसी भी राजनीतिक दल या उम्मीदवार को 22 जनवरी तक फिजिकल रैली करने की अनुमति नहीं होगी. राजनीतिक दलों को चुनाव से संबंधित सभी गतिविधियों के दौरान आदर्श आचार संहिता के दिशा-निर्देशों और कोरोना नियमों की पालना करनी होगी. इसके अलावा सभी तरह के प्रतिबंध 8 जनवरी को जारी निर्देशों के मुताबिक जारी रहेंगे.

सिर्फ वर्चुअल कैंपेन की राजनीतिक दलों को इजाजत

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण आयोग(Election Commission) ने सभी राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए 15 जनवरी तक सभी तरह की रैलियों पर रोक लगा दी थी और सिर्फ वर्जुअल कैंपेन की इजाजत दी गई थी. चुनाव आयोग ने जो दिशा- निर्देश जारी किए थे, उसके मुताबिक राजनीतिक दलों द्वारा कोई भी पद यात्रा, साईकिल यात्रा या रोड शो निकालने पर रोक है.