किसान नेता टिकैत ने की जो बाइडेन से अपील, कहा- मोदी की मीटिंग में उठाना किसानों का मुद्दा

Farmer leader
Farmer leader

The Fact India: तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत के एक ट्वीट से अब नया बखेड़ा खड़ा हो गया है. दरअसल शुक्रवार को किसान नेता राकेश टिकैत ने एक ट्वीट कर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मदद मांगी है और कहा है कि वे तीन कृषि कानूनों को रद्द कराने में दखल दें. जो बाइडेन को टैग करते हुए राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने लिखा कि प्रिय जो बाइडेन, हम भारतीय किसान मोदी सरकार की ओर से लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. आंदोलन करते हुए बीते 11 महीने में 700 किसानों की मौत हो चुकी है. इन कानूनों को हमारे बचाव के लिए वापस लिया जाना चाहिए. पीएम नरेंद्र मोदी से मीटिंग के दौरान हमारी चिंताओं का भी ख्याल रखें.

CM गहलोत पर भड़के कैप्टन, कहा- पहले अपना राजस्थान संभालो

क्वाड देशों के नेताओं से पीएम मोदी की मुलाकात

उनके इस ट्वीट के बाद से ट्विटर पर #Biden_SpeakUp4Farmers ट्विटर पर तेजी से ट्रेंड कर रहा है. शुक्रवार को ही पीएम नरेंद्र मोदी की क्वाड देशों के नेताओं से मुलाकात होने वाली है. इन देशों में भारत और अमेरिका के अलावा जापान एवं ऑस्ट्रेलिया भी शामिल हैं. किसानों को तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन करते हुए करीब एक साल पूरा होने वाला है. बीते साल अक्टूबर की शुरुआत में ही इस आंदोलन की शुरुआत हो गई थी. इसी साल की शुरुआत में पॉप स्टार रिहाना, ग्रेटा थनबर्ग और पोर्न स्टार मिया खलीफा समेत कई विदेशी हस्तियों ने इन कानूनों को लेकर टिप्पणी की थी.

पंजाब: नाराज जाखड़ के तेवार पड़े नर्म, कहा- चन्नी को CM बनाना साहसी फैसला

टिकैत के ट्विट पर मच सकता है बवाल 

तब इस बात को लेकर विवाद छिड़ गया था कि आखिर गैर-भारतीय लोग इस मसले पर टिप्पणी क्यों कर रहे हैं. यही नहीं ग्रेटा थनबर्ग इस मामले में एक टूलकिट शेयर कर घिर गई थीं. यही नहीं टूलकिट केस की जांच के दौरान दिल्ली पुलिस ने कई लोगों को अरेस्ट भी किया था. अब राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) की ओर से अमेरिकी राष्ट्रपति से अपील के चलते विवाद छिड़ सकता है. दरअसल दूसरे देश के प्रमुख की ओर से इस मामले में दखल की अपील किए जाने को लेकर वह घिर सकते हैं. राकेश टिकैत के ट्वीट को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा की सदस्य कविता कुरुगांती ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समर्थन हासिल करना इस आंदोलन के हर स्तर पर मजबूत होने के लिए जरूरी है.