किसान नेताओं का ऐलान, 6 फरवरी को करेंगे देशभर में चक्का जाम

Farmers Protest

The Fact India: कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर दो महीने से अधिक वक्त से प्रदर्शन कर रहे किसानों (Farmers Protest) ने एक फरवरी को सिंघु बॉर्डर के नजदीक बैठक की। जिसमें 5 से 6 मुद्दों पर चर्चा की गई और कुछ अहम फैसले लिए गए। बैठक के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को दिन के 12 बजे से 3 बजे तक पूरे देशभर में चक्का जाम करने का ऐलान किया। संयुक्त किसान मोर्चा ने पुलिस पर आरोप लगाया कि प्रदर्शन में आए नौजवानों को परेशान किया जा रहा है। बेवजह उनकी पिटाई और गिरफ्तारी की की जा रही है। किसान नेताओं ने एक फरवरी को संसद मार्च का भी आह्वान किया था लेकिन 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद स्थगित करना पड़ा था।

किसानों के मुद्दे पर चर्चा चाहता है विपक्ष, कांग्रेस समेत कई दलों ने किया वॉकआउट

आपको बता दें कि सरकार ने किसान आंदोलन को रोकने के लिए दिल्ली के चारों ओर के रास्तों को बंद कर दिया है। किसान नेताओं का कहना है कि धरने वाली जगहों पर पानी, बिजली, टॉयलेट जैसी जरूरी सुविधाओं को बंद कर दिया गया है। पत्रकारों पर हमले किए जा रहे हैं। उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है। पंजाब से आंदोलन में शामिल होने के लिए आने वालों को परेशान किया जाता है और इसके विरोध में ही सड़कों को जाम करने का फैसला किया गया है।

किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि सरकार इस आंदोलन से घबरा गई है और वह पत्रकारों पर मुकदमें दर्ज कर रही है। इसके अलावा गुंडो से हमले करवाना। इंटरनेट बंद करना जैसे कई काम सरकार कर रही है। सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर की हालात की बात करें तो इन दिनों बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात करने, कंक्रीट की दीवार बनाने सहित कई कदम उठाए जा रहे हैं। धरने पर बैठे किसानों में इसे लेकर डर का माहौल है।

दिल्ली पुलिस ने 31 जनवरी से सिंघु बॉर्डर पर बाहर से आने वालों की एंट्री रोक दी है। 29 जनवरी को स्थानीय लोगों ने सिंघु बॉर्डर को खाली कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था, तब आंदोलनकारी किसानों और स्थानीय लोगों के बीच झड़प हुई थी। इसके बाद से पुलिस ने यह फैसला लिया है कि किसी भी शख्स को धरनास्थल पर नहीं जाने दिया जाएगा। इन दोनों जगहों को किसी छावनी में तब्दील कर दिया गया है और यहां कई लेयर्स की बैरिकेडिंग की गई है। ऐसा लग रहा है कि पुलिस ने सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर को पूरी तरह दिल्ली से काट दिया है।

किसान आंदोलन से जुड़े 250 ट्विटर अकाउंट सस्पेंड, PM के खिलाफ विवादित ट्वीट पर एक्‍शन

इससे सबसे ज्यादा दिक्कत वहां तक खाने-पीने का सामान पहुंचाने वालों को हो रही है। हालांकि पुलिस का कहना है कि जरूरी चीजों को सिंघु बॉर्डर तक वैकल्पिक रास्तों के जरिये पहुंचाया जा रहा है। बहरहाल किसान संगठनों और सरकार के बीच 11 दौर की बातची बेनतीजा रही है। 11वीं बैठक में सरकार की तरफ से नए कृषि कानूनों को एक से डेढ़ साल तक स्थगित करने का प्रस्ताव दिया लेकिन किसान एमएसपी की लिखित गारंटी और इन कानूनों को वापस लेने की मांग पर अडिग है और अब किसान 6 फरवरी को देशव्यापी चक्का जाम करने का ऐलान किया है।