जयपुर में किसानों ने जमाई संसद, मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा- स्वागत है

The Fact India: अंतराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी जयपुर में किसानों का जमावड़ा लगा हुआ है. कृषि कानूनों के खिलाफ आज दिल्ली की तर्ज पर जयपुर में किसान संसद (Kisaan Sansad) का आयोजन हो रहा है. जयपुर किसान संसद के सफल आयोजन के बाद प्रदेशभर में किसान संसद का आयोजन किया जाएगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी जयपुर में आयोजित हो रही इस किसान संसद का स्वागत किया है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसानों का स्वागत करते हुए कहा कि बिड़ला ऑडिटोरियम (जयपुर) में आयोजित किसान संसद (Kisaan Sansad) में भाग ले रहे सभी किसानों का मैं स्वागत करता हूँ. आज लोकतंत्र दिवस के अवसर पर यह कार्यक्रम होना महत्वपूर्ण है क्योंकि हमारे किसान विरोध के लोकतांत्रिक नॉर्म्स के अनुसार शांतिपूर्ण तरीके से कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं.

राजस्थान में इन जिलों में अति भारी बारिश की संभावना, मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट

आगे उन्होंने कहा कि अनुशासन के साथ और जिस रूप से तमाम परेशानियों के बावजूद बिना उम्मीद खोए किसान कई महीनों से संघर्ष कर रहे हैं इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं. केंद्र सरकार को किसानों की बात सुननी चाहिए और समाधान करना चाहिए. कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए.

संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े किसान नेता हिम्मत सिंह गुर्जर ने बताया कि जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में शुरू हुई इस किसान संसद की ‘कार्यवाही’ ठीक संसद सत्र की तरह चल रही है. इसमें प्रश्न काल से लेकर शून्य काल सहित संसद की तरह विभिन्न सत्र आयोजित किया जा रहा है.

‘किसान संसद’ में प्रमुख रूप से केंद्र के तीन कृषि कानूनों के मुद्दे पर तो चर्चा होगी ही, इसके अलावा बढ़ती महंगाई और सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण सहित जनहित से जुड़े कई महत्वपूर्ण मसलों पर भी चर्चा होगी. इन अभी मुद्दों पर किसान सांसद अपने पक्ष रखेंगे. संसद के विभिन्न सत्र करीब 8 घंटे यानी शाम 6 बजे तक चलेंगे.