पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह का BCCI पर फूटा गुस्सा, कहा- मुझे नहीं चाटने किसी के तलवे

The Fact India: भारत के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह(Harbhajan Singh) ने हाल में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से अलविदा कह दिया है. हरभजन के संन्यास लेने के साथ ही उनके सियासी भविष्य को लेकर तरह- तरह की अटकलें लगाई जाने लगी है. किसी का कहना है कि वह अब सियासी समर में अपनी किस्मत आजमाएंगे. हरभजन पंजाब विधानसभा चुनाव में उतरेंगे तो कुछ लोगों का कहना है कि वह आईपीएल में किसी टीम के साथ बतौर सपोर्ट स्टाफ जुड़ने वाले हैं. लेकिन हरभजन उर्फ भज्जी फ्यूचर में क्या करेंगे यह तो वक्त ही बताएगा. लेकिन बहरहाल उन्होंने बिल्कुल साफ कर दिया है कि वह किसी भी तरह से ‘समझौता’ नहीं करेंगे.

ताजा सर्वे: यूपी में योगी और अखिलेश के बीच कांटे की टक्कर, पलट सकती है सियासी बाजी

मुझे किसी के तलवे नहीं चाटने है- हरभजन सिंह

दिग्गज ऑफ स्पिनर से जब यह पत्रकारों ने यहा सवाल पूछा गया कि रिटायरमेंट के बाद भी खिलाड़ी जल्दी बीसीसीआई से पंगा नहीं लेते हैं, ऐसे में उनका आगे का क्या प्लान है तो भज्जी(Harbhajan Singh) ने एक निजी चैनल से बातचीत में कहा कि मैं एक ऐसा इंसान रहा हूं जो सही को सही और गलत को गलत कहता है. मुझे लगता है कि जिस किसी को एक ईमानदार आदमी की कद्र होती है, वह मुझे जरूर कहेंगे कि आप आइए और ये काम करना है और आप कर सकते हो. मुझे किसी के तलवे नहीं चाटने हैं कि मुझे कोई विशेष काम दिया जाए. फिर चाहे वह किसी भी क्रिकेट एसोसिएशन का काम हो या किसी भी तरह से हो. क्योंकि मैं कड़ी मेहनत करके यहां तक पहुंचा हूं.

पम्पी पर छापे की कार्रवाई से भड़के अखिलेश, कहा- BJP की बौखलाहट और डर साफ नजर आ रहा

3-4 साल पहले संन्यास ले लेना चाहिए था

41 साल के पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह(Harbhajan Singh) ने माना कि उन्हें 3-4 साल पहले ही खेल को अलविदा कह देना चाहिए. उन्होंने कहा कि लेट जरूर हूं. इस नतीजे पर मैं लेट पहुंचा हूं. मुझे 3-4 साल पहले ही संन्यास ले लेना चाहिए था. टाइमिंग ठीक नहीं थी. साल के अंत में सोचा कि किसी और तरीके से क्रिकेट की सेवा करूं. मेरी खेलने की लालसा अब वैसी नहीं रही जैसी पहले थी.