क्रिकेट जगत को हरभजन ने कहा अलविदा, अब कर सकते हैं सियासत में एंट्री

The Fact India: भारत के दिग्गज स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह (Harbhajan Retirement) ने शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया, गेंदबाज हरभजन सिंह ने साल 1998 में अपना डेब्यू किया था और अब 23 साल में उन्होंने क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कहने का फैसला लिया है. केवल 17 साल की उम्र में हरभजन सिंह ने क्रिकेट की शुरुआत की थी और आज वह 41 साल के हो चुके हैं, हरभजन सिंह ने साल 1998 को चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच के मुकाबले के साथ अपने अंतरराष्ट्रिय करियर की शुरुआत की थी, इसके बाद हरभजन सिंह नें उसी साल न्यूजीलैंज के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था.

उसके बाद हरभजन सिंह (Harbhajan Retirement) ने साल 2006 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ अपना टी20 डेब्यू किया. फिर इसके बाद से साल 2015 तक उन्होंने कुल 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट लिए और दो शतकों के साथ 2235 रन भी बनाए, वहीं उन्होंने 236 मैचों में 269 विकेट लिए और 1237 रन बनाए थे.

फिर बात करें टी20 कि तो उनके नाम 28 मैचों में 25 विकेट दर्ज हैं. अनिल कुंबले और आर अश्विन के बाद हरभजन सिंह भारत के लिए टेस्ट विकेट लेने वाले तीसरे गेंदबाज हैं और हरभजन सिंह ने आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स, मुंबई इंडियंस और कोलकता नाइट राइडर्स के लिए खेला हैं, जिसमें हरभजन सिंह ने कुल 150 विकेट लिए थे.

बेअदबी और बम ब्लास्ट से गरमाई पंजाब की सियासत, केजरीवाल ने बोला हमला

हरभजन सिंह का करियर के बारे में
गेंदबाज हरभजन सिंह ने कहा कि पिछले कुछ समय से वह यह घोषणा करना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए, फिर उन्होंने यूट्यूब चैनल पर खास वीडियो शेयर करते हुए हरभजन सिंह ने कहा कि मैं आज से क्रिकेट के हर फॉर्मेट से सन्यास ले रहा हुं, मैं मन से तो काफी पहले ही रिटायरमेंट ले चुका था लेकिन आपके साथ इसे अब शेयर आ कर रहा हूं वैसे भी मैं काफी समय से एक्टिन क्रिकेट नहीं खेल रहा था, मैं काफी पहले ऐसा करना चाहता था लेकिन कोलकता नाइट राइडर्स के साथ अपने कमिटमेंट के कारण मैं चाहता था कि इस साल उनके साथ ही रहूं. हर किसी की तरह मैं भी इंडिया जर्सी में टीम को अलविदा कहना चाहता था लेकिन तकदीर को शायद कुछ और ही मंजूर था मैं जिस टीम के लिए भी खेला हूं मैने हमेशा कोशिश की कि वह हमेशा टॉप पर रहे.

अपनी सफलता के लिए हरभजन सिंह ने अपने गुरु को धन्यवाद कहा और अपने माता-पिता के अलावा उन्होंने अपनी बहनों को अपनी सबसे बड़ी ताकत बताया, और उन्होंने साथ ही अपनी पत्नी गीता बसरा से भी वादा किया हैं कि वह अब उनके अपने दोनों बच्चों के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताएंगे भारत के इस दिग्गज स्टार ने अपने करियर के साथ सभी साथी और विरोधी खिलाड़ियों को धन्यवाद कहा, साथ ही अंपायर ग्राउंड्स मैन का भी धन्यवाद दिया.