हिंदी दिवस विशेष: इंटरनेट पर भी धाक जमा रही हिंदी, ट्विटर पर बढ़ा चलन

The Fact India: 14 सितम्बर यानि आज के दिन पूरे भारत में हिन्दी दिवस (Hindi Diwas) मनाया जाता है. आज ही के दिन 1949 में देवनागरी या हिन्दी को राजभाषा का दर्जा दिया गया था. आज के समय में हिन्दी विश्व में बोले जाने वाली भाषाओं में से तीसरे स्थान पर आती है. सारे माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे अंग्रेजी मध्यम स्कूल में पढ़े और बड़े आदमी बने क्योंकि जब भी हम नौकरी के लिए जाते हैं वहां हिन्दी नहीं अंग्रेजी को ही ज्यादा महत्व दिया जाता है. आजकल सब अंग्रेजी के पीछे भाग रहे हैं और हिन्दी कहीं दूर रह गई है. हम 50 भाषा सीखें पर हमें अपनी राजभाषा को नहीं भूलना चाइए. हिन्दी को अन्देखा करना हमारे राष्ट्र के हित में नहीं है. हमें हिन्दी को महत्त्व देते हुए इसे रोजमर्रा में प्रयोग करना चाहिए जिससे हम अपनी भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ा सकें.

भाजपा विधायक का सवाल- ACB मंत्री-विधायकों पर क्यों नहीं करती एक्शन

अच्छी बात तो यह है कि हिन्दी ने अब तक अपनी महत्तवता पूरी तरह से नहीं खोई है. आज भी हमारे देश में 50% से अधिक लोग हिन्दी का ही प्रयोग करते हैं. इंटरनेट हो या मीडिया सब में ही इसका एक महवत्पूर्ण स्थान है. लोग अब भी समाचार पत्र हिन्दी में ही पढ़ना पसंद करते हैं. हमारा हिन्दी सिनेमा पूरे विश्व में लोकप्रिय हैं. सोशल मीडिया पर अब हिन्दी को भी एक महत्वपूर्ण स्थान दिया जा रहा है. जिससे युवा पीढ़ी फिर से अपनी राष्ट्रभाषा हिन्दी से जुड़ रही है. मोदी सरकार के आने के बाद कई चीजें जैसे राज-काज के कार्य हिन्दी में होने लगे हैं और तो और ट्वीट में भी हिन्दी का प्रयोग होने लगा है. प्रधानमंत्री विश्व स्तर पर हिन्दी को बढ़ावा देते हैं और अब स्कूल से लेकर इंजीनियरिंग तक हिन्दी भाषा को अधिक महत्व दिया जा रहा है. इस ही चलन को हमें आगे बढ़ाना होगा तभी हमारी राजभाषा को उसका सही स्थान मिल सकेगा.

रीट परीक्षा के दिन 24 सितंबर को दक्षिण राजस्थान में हिंसा की आशंका, इंटेलिजेंस ने किया अलर्ट

हम अपनी भाषा की उपेक्षा करते हैं और बाहर के देशों में हिन्दी पढ़ाए जाने पर हमे गर्व होता है. जर्मनी और अमेरिका में भी हिन्दी पढ़ाई जाती है. हमें दूसरे देशों से सीखना चाहिए कि कैसे अपनी मातृभाषा को महत्व देते हुए अन्य भाषाओं को भी सीखें. अगर हम हिन्दी का महत्व याद रखें तो हमें हिन्दी दिवस मनाने की आवश्कता ही नहीं होगी. हर दिन ही हिन्दी दिवस बन जायेगा, इससे हमारा ही नहीं हमारे देश का भी उत्थान होगा और हमारी मातृभाषा जो अभी तीसरे स्थान पर है उसे पहले स्थान पर आने में ज्यादा समय नहीं लगेगा.