Bikaner News: रूम मेट से परेशान होकर नर्सिंग छात्रा ने की आत्महत्या

The Fact India: राजस्थान के बीकानेर के सरदार पटेल के नर्सिंग कॉलेज में पढ़ने वाली स्टूडेंट आयुष के सुसाइड के बाद हॉस्टल मैनेजमेंट (Hostel Management) पर बड़ा सवाल उठ  रहा है. आयुष और उसकी रूम मेट चंदा प्रजापत के बीच पिछले कई समय से विवाद चल रहा था. कॉलेज प्रशासन ने दोनों के बीच सुलह करवाने की बजाए उन्हें जबरन साथ रहने के लिए मजबूर किया. जिससे परेशान होकर आयुष ने सुसाइड करना पड़ा.

आयुष के पिता मुकेश का आरोप है कि चंदा प्रजापत और कोटपुतली निवासी नाहर सिंह ने मिलकर आयुष को इतना परेशान किया कि उसने सुसाइड कर लिया. वो पिछले लंबे समय से इन दोनों के कारण तनाव में थी. उसने पहले फोन करके बताया कि वो सुसाइड कर रही है उसके बाद फिर हॉस्टल के कमरे में फंदा लगा लिया. पुलिस ने सुसाइड के लिए उकसाने के आरोप में चंदा और नाहर सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

यह था विवाद

नाहर सिंह रावत को आयुष के पिता मुकेश ही एक बार बीकानेर लेकर आए थे. वो किराए की कार चलाता है. इसके बाद नाहर ने चंदा और आयुष दोनों के नंबर ले लिए. वहीं, चंदा को लेकर शिकायत थी कि वो रात तक तेज लाइट लगाकर पढ़ती थी,  जिससे आयुष को दिक्कत होती थी. आयुष को माइग्रेन की पेरशानी थी. जिससे दोनों के बीच विवाद बढ़ता गया और कई तरह की शिकायतें होती रही.

राजस्थान के दो खिलाड़ियों को खेल रत्न, पैरालिंपिक खिलाड़ी अवनी और कृष्णा का हुआ चयन

फांसी लगाने से पहले वीडियो कॉल

आयुष ने फांसी लगाने से पहले नाहर सिंह और चंदा प्रजापत को वीडियो कॉल किया था. इसका पता कॉल रिकार्ड से चला. कॉल के दौरान आयुष ने चंदा और नाहर को जो कहा उसका पता लगाया जा रहा है. चंदा को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है,  जबकि नाहर सिंह को हिरासत में लेने के लिए पुलिस दल कोटपुतली गया है.

अब बनी है जांच कमेटी

आयुष और चंदा के बीच चल रहे सात महीने पुराने विवाद को ख़तम करने के लिए कॉलेज प्रबंधन के पास समय नहीं था, पर अब जब उसकी मौत हो गई है  तो जांच कमेटी का गठन कर दिया गया है. पीबीएम अस्पताल के अधीक्षक डॉ. परमेंद्र सिरोही ने बताया कि जांच कमेटी में डॉ. रेखा आचार्य,  डॉ.संजय बुरी,  एल.ए. रहमान और नर्सिंग अधीक्षक को जिम्मेदारी दी गई है.