कोरोना से बचना है तो संभल जाइए,CM बोले- कोरोना की दूसरी लहर में हालात भयावह

Ashok gehlot

The Fact India: कोरोना के लगातार बढ़ते हुए प्रकोप में ऑक्सीजन की भरी किल्लत देखने को मिल रही है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा है कि कोरोना की दूसरी लहर में हालात भयावह होते जा रहे हैं। ऑक्सीजन की मांग इतनी हो गई है कि हम केंद्र से इसकी भीख मांग रहे हैं। मैंने आज ही अमित शाह से बात की है। मैंने अजीत डोभाल, पीएम के प्रमुख सचिव मिस्टर मिश्र से लेकर किसी को नहीं छोड़ा। सबसे ऑक्सीजन और दवाओं के लिए बात की है। कई लोगों से रोज बात कर रहा हूं। गहलोत कांग्रेस के मजदूर संगठन इंटक के स्थापना दिवस पर आयोजित वर्चुअल समारोह में बोल रहे थे।

राजस्थान में कोरोना से बिगड़ते हालात:24 घंटे में 17,296 नए संक्रमित मिले, 154 की मौत

देश में 5 ऑक्सीजन टैंकर के लिए केंद्रीय गृह मंत्री से बात करनी पड़ रही है और उस स्तर पर टैंकर अलॉट हो रहे हैं। हम राजस्थान में कोरोना के आंकड़े छिपाते नहीं हैं। कई राज्य छिपाते होंगे। कर्नाटक में सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन बंद होने से 24 लोगों की मौत हो गई। हमने केंद्र में दवाओं और ऑक्सीजन की कमी पर अपने 3 मंत्रियों को दिल्ली भेजा था। हम लगातार हर संभव कोशिश कर रहे हैं। सरकार किसी स्तर पर कोई कमी नहीं रख रही है।

हम तो चिंता कर रहे हैं कि राजस्थान को कैसे बचाएं। हम सबको मिलकर काम करना है। हमने 15 दिन का लॉकडाउन लगाया है। इसे नाम अब दूसरा दिया है, लेकिन इसे लॉकडाउन ही समझिए। आज ही हमने कड़वा विज्ञापन दिया है ताकि लोग समझ जाएं। बचना है तो संभल जाओ। ऐसे बिहेव करो जैसे कोरोना लॉकडाउन हो। मैंने कल पुलिस से फ्लैग मार्च करवाया ताकि लोगों को लगे कि हालात क्या हैं। लोगों को अब सचेत होना होगा और लॉकडाउन की तरह बर्ताव करके सहयोग करना होगा, तभी हालात नियंत्रण में आएंगे। अकेली सरकार कुछ नहीं कर सकती।