बंद कमरे में शाह ने कोर ग्रुप के नेताओं से की मंत्रणा, ये रहेगी रणनीति

The Fact India: देश के गृह मंत्री और भाजपा के चाणक्य अमित शाह का आज दौरे पर रहे जयपुर.अब यूं तो उनका ये दौरा नॉर्थ जोनल काउंसिल की बैठक में हिस्सा लेने का रहा. जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब के सीएम, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली, जम्मू कश्मीर और लद्दाख के उप राज्यपाल भी शामिल हो रहे. बैठक में राज्यों के लॉ एंड ऑर्डर के अलावा राज्यों के सीमा विवाद समेत अन्य मुद्दों पर अलग-अलग राज्यों के जनप्रतिनिधि अपनी-अपनी बात रखी गई. लेकिन वहीं दूसरी ओर शाह ने आज जिस तरह से प्रदेश भाजपा के कुछ दिग्गजों के साथ अपने मन की बात की. और सूबे के भाजपा नेताओं ने अपनी जो बात उनके सामने र खी.उसे देख कर माना जा रहा है कि अब शाह की नजरें भी राजस्थान में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों पर टिकी है.

अब यूं तो शाह के पास पूरे हिंदुस्तान के कई मुद्दे हैं. लेकिन भाजपा के प्रति भी उनकी एक जिम्मेदारी तो है ही. अब आज शाह का जयपुर दौरा रह और अपनी आॅफिशयली मिटिंग के साथ ही भाजपा नेताओं की उनसे मुलाकात के मायने कई है. आपको बता दें कि कल से यानि 10 जुलाई से 12 जुलाई तक राजस्थान BJP नेताओं का प्रदेश स्तर का सबसे बड़ा ट्रेनिंग कैंप सिरोही के माउंट आबू में लगेगा. यानि भाजपा के तमाम दिग्गज यहां जुटेंगे और इस कैंप में पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी और नेता चुनावी जीत की स्ट्रेटेजी पर ट्रेनिंग देंगे.

REET पर बवाल रिपीट, जारोली के क्लीन-चिट पर भड़के बेरोजगार

खबर ये भी है कि बीजेपी राजस्थान में जल्द ही बड़े आंदोलन और अभियान भी चलाएगी. तो फिर सीधे तौर पर कहा जा सकता है कि 2023 विधानसभा चुनाव से काफी पहले भाजपा एक्टिव मोड पर आ गई है यानि कांग्रेस को मात देने की तैयारी. बीजेपी की इस महातैयारी को इस रूप में देखा जा रहा है, कि अगला चुनावी चेहरा कौन होगा? माउंट आबू में जो महामंथन होगा, इसमें बूथ लेवल के माइक्रो मैनेजमेंट के साथ मोदी सरकार की स्कीम और उपलब्धियां जनता को बताने और लाभार्थियों तक पहुंच बनाने पर फोकस रखकर प्रोग्राम डिजाइन होंगे. जाहिर है राजस्थान में अगला विधानसभा चुनाव PM मोदी के चेहरे पर ही लड़ने की तैयारी चल रही है.

बीजेपी राष्ट्रीय कार्यसमिति में दो टास्क दिए गए हैं, इसके तहत राजस्थान में 52 हजार बूथों पर बीजेपी व्हाट्सएप ग्रुप बनाने में जुट गई है. हर बूथ पर 200 एक्टिव कार्यकर्ता बनाए जाएंगे. जिनकी प्रदेश स्तर पर मॉनिटरिंग होगी। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हर घर तिरंगा अभियान भी प्रदेश में चलाया जाएगा. अगस्त महीने में बीजेपी नेता-कार्यकर्ता मंडल और बूथ स्तर पर यह अभियान चलाएंगे. बूथ मैनेजमेंट और मजबूती के लिए प्रदेशाध्यक्ष और संगठन मंत्री हर सप्ताह रिव्यू बैठक करेंगे. सांसद, विधायक, प्रदेश पदाधिकारियों के दौरे होंगे.

सीधे तौर पर माना जा सकता है कि केवल कांग्रेस ही नहीं बल्कि भाजपा ने भी अपने मोहरे फैला दिए हैं. ओर अब वो भी पूरी तैयारियों में है. और फिर आज शाह जो भाजपा नेताओं को गुरू मंत्र देकर गए हैं. उसके बाद तो जोश इधर भी है. लेकिन इस सबके बाद भी राजस्थान भाजपा में एक सवाल तो बरकरार रहेगा कि जिस तरह पार्टी में भी अंदरूनी कलह की आवाजें बाहर सुनाई देती है. और वो दोनों ही पार्टियों में है तो फिर भाजपा अपना मिशन कैसे पूरा करेगी. जाहिर है मिशन पूरा तभी होगा जब तमाम भाजपाई एक जाजम पर होंगे.

208 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.