आयकर विभाग ने मारे मीडिया हाउस पर छापे, CM गहलोत ने कहा ये

The Fact India: देश के एक बड़े अखबार समूह और एक प्रतिष्ठित न्यूज चैनल पर आयकर विभाग (Income Tax) ने छापे मारे है. आयकर विभाग ने इनकम टैक्स चोरी का आरोप लगाते हुए इन मीडिया हाउसेस पर छापे मारे है. मिली जानकारी के अनुसार इनकम टैक्स इंवेस्टिगेशन विंग की ये छापेमारी भास्कर के नोएडा, भोपाल, जयपुर, अहमदाबाद, मुंबई आदि विभिन्न कार्यालयों पर की गई है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि कार्रवाई में प्रमुख हिंदी मीडिया समूह के प्रमोटर भी शामिल हैं, जो कई राज्यों में संचालन करते हैं. वही दैनिक भास्कर के बाद भारत समाचार पर भी आयकर विभाग के छापे पड़े है.

विपक्ष इस मामले में लगातार केंद्र की आलोचना कर रहा है. कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने बीजेपी की आलोचना की तो वही कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बीजेपी के पतन की बात कह दी है. राजस्थान के मुख्यंत्री अशोक गहलोत संग देश के कई पत्रकारों ने भी इस मामले में केंद्र को आड़े हाथों ले रहे है.

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि जब सरकार कैमरा और कलम से इतनी ड़र जाए तो ऐसी सरकार का पतन निश्चित है.

राजस्थान में 35 अधिकारी कर रहे है छानबीन

भास्कर ग्रुप के राजस्थान कार्यालय पर छापों (Income Tax) को दिल्ली और मुंबई की टीमें संचालित कर रही है. छापे की सूचना मिलने के बाद अखबार की डिजीटल विंग को घर से ही काम करने के लिए कह दिया गया है. जयपुर हेड ऑफिस पर कार्रवाई जारी है. जानकारी है की आयकर विभाग के 35 अधिकारी दस्तावेजों की जांच कर रहे है. सूत्रों के अनुसार मालिकों से ED पहले भी पूछताछ कर चुकी है.

गहलोत ने कहा मीडिया को दबाने का प्रयास

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अखबार समूह दैनिक भास्कर और भारत समाचार के न्यूज कार्यालयों पर पड़े छापो की आलोचना करते हुए कहा कि केंद्र सरकार मीडिया को दबाने का प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि यह केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा की फासीवादी मानसिकता का परिचायक है.

वही भास्कर ग्रुप के नेशनल एडिटर एलपी पंत ने ट्विट किया कि मैं स्वतंत्र हुं क्योंकि मैं दैनिक भास्कर हूं.

पत्रकारों की है ये राय

लेखिका और पत्रकार सबा नकवी ने ट्विट किया- ग्रुप ने दूसरी लहर के दौरान शानदार रिपोर्टिंग की थी. बस ऐसे ही कह रही हूं.

वही पत्रकार श्रीनिवास जैन ने केवल एक शब्द लिखा- निस्संदेह.

दि वायर के संस्थापर और संपादक एमके वेणु ने ट्विटर पर लिखा – गंगा पर तैरती लाशों और पेगासिस पर रिपोर्टिंग का ये इनाम मिला.