रोजगार नहीं… करना है अपना बिजनेस, तो गहलोत सरकार दे रही इतने पैसे

The Fact India: कोरोना वायरस संक्रमण ने लंबे समय से लोगों के रोजगार को प्रभावित किया है… एक बार फिर तीसरी लहर लोगों के रोजगार के लिए खतरा बनी हुई है… लेकिन राजस्थान सरकार की कई ऐसी योजनाएं है… जिनके लाभ से आम जनता इस मुश्किल घडी में खुद को सुरक्षित कर सकती है… तो आज ऐसी ही एक योजना के बारे में आपको बताने जा रहे है.. जिससे प्रदेश के छोटे व्यापारियों को काफी फायदा दिया जा रहा है… इस योजना का नाम है… इंदिरा गांधी शहरी क्रेडिट योजना (Indira Gandhi Sahari Credit Yojana).. इस योजना के तहत कोरोनावायरस संक्रमण के कारण बेरोजगार हुए छोटे व्यापारियों, वेंडर्स, थडी ठेला व्यापारियों एवं असंगठित क्षेत्र में सेवाएं देने वाले नागरिकों को 50 हजार तक का ऋण दिया जाएगा…. सबसे जरूरी बात ये है कि ये योजना 31 मार्च 2022 तक लागू रहेगी… अगर आप भी अपना कोई बिजनेस स्टार्ट करना चाहते है तो इस योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन कर सकते है… लेकिन उससे पहले ये जरूर जान ले.. कि इसके लिए क्या पात्रता चाहिए.

आवेदक राजस्थान का स्थाई निवासी होना चाहिए.

आवेदक की आयु 18 से 40 साल के बीच में ही होनी चाहिए.

आवेदक की मासिक आय 15 हजार या फिर इससे कम होनी चाहिए.

आवेदक की परिवार की मासिक आय 50 हजार या फिर इससे कम होनी चाहिए.

सभी छोटे व्यापारी जिनको शहरी निकाय द्वारा प्रमाण पत्र या पहचान पत्र प्रदान किया गया है वह भी इस योजना के पात्र है.

पुष्कर के पवित्र सरोवर में जा मिला सीवरेज का गंदा पानी, लोगों की आस्था से खिलवाड़

आवेदन के लिए आपके पास आपका आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, पहचान पत्र, आयु प्रमाण पत्र, मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ ये सभी होना चाहिए… बता दें इस योजना के लिए केवल वेबपोर्टल एवं एंड्रॉइड ऐप के माध्यम से ही आवेदन किया जा सकता है… देखिए इस योजना के कई फायदे है… दरअसल इस योजना के अंतर्गत दिए जाने वाला ऋण पूरी तरह से ब्याज मुक्त होगा.. और इस ऋण के लिए आपको किसी भी तरह की गारंटी देने की जरूरत नहीं है… लेकिन हां लाभार्थी को ऋण का भुगतान 12 महीने के अंदर अंदर करना होगा… लगभग 5 लाख अभ्यर्थियों को इस योजना के माध्यम से पहले आओ पहले पाओ के आधार पर ऋण दिया जा रहा है… देखिए कोरोना ने सभी को ब़ड़ी मुश्किल में ला दिया है.. कुम्हार रिक्शेवाले खाती मोची मिस्त्री रंग पेंट करने वाले और ऐसे कई और लोग.. जिनका खर्च रोजमर्रा की कमाई से निकलता है… उनके लिए गहलोत सरकार की ये स्कीम अंधकार में सूर्य की किरण जैसी है.