प्यार की खातिर जापानी प्रिंसेस ने छोड़ा अपना रॉयल टाइटल, बॉयफ्रेंड से की शादी

The Fact India: अक्सर हमने कहानियों में सुना है कि प्यार के लिए इंसान सब कुछ छोड़ देता है,  पर इस बात को जापान के एक कपल ने सच कर दिखाई है. जापान की प्रिंसेस (Japanese Princess) माको जापान के मौजूदा राजा नारूहितो के भाई प्रिंस आकिशिनो की बेटी हैं. माको ने मंगलवार को अपने कॉलेज के बॉयफ्रेंड केई कोमुरो के साथ शादी कर ली. इसके साथ ही माको ने अपना रॉयल टाइटल भी छोड़ दिया,  जो शाही परिवार के मेंबर को एक आम आदमी से शादी करने से रोकता है. शादी के बाद प्रिंसेस अपने पति कोमुरो के साथ अमेरिका के न्यूयॉर्क में रहेंगी.

IHA ने जमा कराए रजिस्ट्रेशन पेपर्स

प्रिंसेस की शादी की घोषणा मंगलवार सुबह उस समय हुई, जब शाही परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी संभालने वाली इंपीरियल हाउसहोल्ड एजेंसी (IHA) ने स्थानीय मैरिज ऑफिस में दोनों की शादी को रजिस्टर्ड कराने के लिए इंपोर्टेंट पेपर्स जमा कराए.

पहली बार बनवाएंगी पासपोर्ट

अब शादी के बाद माको कोमुरो के साथ अमेरिका के न्यूयॉर्क में रहेंगी, जिसके लिए वे जिंदगी में पहली बार पासपोर्ट के लिए अप्लाई करेंगी. दरअसल जापान के शाही परिवार के सदस्य दूसरे देश की यात्रा के लिए पासपोर्ट की जगह डिप्लोमेटिक कार्ड का इस्तेमाल करते हैं. इसके चलते माको का पासपोर्ट नहीं बना है.

मोदी को उखाड़ फेंकने की गलतफहमी ना पाले राहुल गांधी- प्रशांत किशोर

प्रिंसेस ने नहीं लिए 13 लाख डॉलर भी

नवविवाहित कपल ने अपनी शादी में उन सभी परंपराओं को तोड़ दिया, जो जापान में किसी शाही शादी का अनिवार्य हिस्सा होती हैं. इनमें शादी के बाद दिया जाने वाला शाही रिसेप्शन भी शामिल है. इतना ही नहीं, प्रिंसेस माको ने 13 लाख डॉलर की वह रकम भी नहीं ली जो जापानी राजवंश की परंपरा के अनुसार किसी रॉयल वुमन को शाही फैमिली से बाहर शादी करने पर रॉयल टाइटल छोड़ने के बदले मुआवजे के तौर पर दी जाती है.

मनी स्कैंडल की वजह से चार साल टली शादी

प्रिंसेस और कोमुरो ने शादी करने की ऑफिशियल घोषणा तो चार साल पहले हो हो गई थी, और उस समय जापानी जनता ने इसका स्वागत करते हुए खुशियां मनाई थीं, पर कुछ समय बाद ही मीडिया रिपोर्ट में उछले एक मनी स्कैंडल में कोमुरो की मां का नाम शामिल होने पर यह शादी टाल दी गई थी. इसके बाद 2018 में कोमुरो न्यूयॉर्क में लॉ की पढ़ाई करने के लिए चले गए थे और वहां से पिछले महीने सितंबर में ही वापस जापान लौटे थे.