ममता तीसरे टर्म की शुरूआत खून से रंगे हुए हाथ के साथ कर रही हैं- नड्डा

JP-Nadda

The Fact India : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने बंगाल में हिंसा के लिए राज्य की नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा कि दो मई की हिंसा देश विभाजन और ‘डायरेक्ट एक्शन डे’ की याद दिला रही है. ममता बनर्जी ने भले ही जनादेश प्राप्त कर लिया है, लेकिन ममता जी अपने तीसरे टर्म की शुरुआत खून से रंगे हुए हाथ के साथ कर रही हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पीड़ित कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान ये बाते कही.

केंद्र सरकार के मुख्य वैज्ञानिक का दावा, जल्द कोरोना की तीसरी लहर देगी दस्तक

राष्ट्रपति शासन की मांग को नड्डा ने किया खारिज

जेपी नड्डा (JP Nadda) ने कहा कि कार्यकारी मुख्यमंत्री के रूप में ममता बनर्जी जिस तरह से नरसंहार को लेकर चुप रहीं. यह साबित करता है कि उनकी इसमें सहमति थी. यह हमारे लिए अप्रत्याशित था कि ममता जी का यह खेला होगा.. लगभग 80 हजार से 1 लाख लोग घर छोड़ने के लिए बाध्य होंगे. मुख्यमंत्री बोल रही हैं कि उसके विधानसभा क्षेत्र में नहीं हुआ है. क्या यह मजाक है? इसके साथ ही जेपी नड्डा ने राष्ट्रपति शासन की मांग को खारिज करते हुए कहा कि वे लोग इसका मुकाबला प्रजातांत्रिक तरीके से करेंगे.

हिंसा 1946 के नरसंहार की दिलाती है याद

जेपी नड्डा ने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ताओं  परिवारों पर हमले किये गए. विशेष रूप से महिलाओं पर हमला किया गया. महिलाओं के साथ दुष्कर्म किए गए. महिलाएं सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं. हम जनादेश का सम्मान करते हैं, लेकिन जनादेश से सच्चाई नहीं छुप सकती है. लूट की घटनाएं देखने मिल रही है. जब मैं साल 1946 की बात करता हूं. उस समय भी रक्त बहा था. आज भी दो तारीख के बाद बंगाल के लोगों को रक्त देखने मिल रहा है. मैं इसकी निंदा करता हूं. हम असहिष्णुता के विचार को नेस्ता-नाबूत करेंगे.