REET को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत के कई अहम निर्णय, जानिए पूरी डिटेल

The Fact India: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा यानि रीट (REET-2021) परीक्षा को लेकर सीएमआर में आज एक अहम बैठक की. बैठक में पेपर लीक और नकल गिरोह पर नकेल कसने को लेकर चर्चा की गई. साथ ही अभ्यर्थियों के आवागमन की व्यवस्था को लेकर भी फैसला किया गया.

सीएम गहलोत ने बताया कि राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (REET-2021) 2021 में शामिल होने वाले सभी अभ्यर्थियों को निःशुल्क यात्रा की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी. निर्देश दिए कि रोडवेज की बसों के अलावा पर्याप्त संख्या में निजी बसों की व्यवस्था कर समस्त अभ्यर्थियों को निःशुल्क यात्रा की सुविधा दी जाए.

सीएमआर पर रीट की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से आयोजित उच्च-स्तरीय बैठक को संबोधित किया. भर्ती परीक्षाओं में पेपर लीक, डमी केन्डीडेट बैठाने एवं नकल कराने जैसे प्रकरणों में किसी भी सरकारी अधिकारी-कर्मचारी की संलिप्तता पाए जाने पर उसे सेवा से बर्खास्त किया जाए. साथ ही किसी निजी स्कूल के कार्मिक अथवा स्कूल से जुड़े व्यक्ति की संलिप्तता पाई गई तो संबंधित स्कूल की मान्यता स्थायी रूप से समाप्त कर दी जाए.

मुख्यमंत्री गहलोत की बड़ी घोषणा, REET अभ्यर्थी निजी बसों में भी कर सकेंगे निःशुल्क यात्रा

प्रतियोगी परीक्षाओं में नकल गिरोह द्वारा नकल कराने जैसे प्रकरण सामने आने के बाद अभ्यर्थियों की मेहनत पर पानी फिर जाता है. ऐसे में, इन नकल गिरोहों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. किसी भी परीक्षा केन्द्र पर लापरवाही नहीं बरती जाए. परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं.

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड एवं जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए कि प्रश्न पत्रों के प्रिटिंग प्रेस से परीक्षा केंद्रों तक पहुंचने और वहां खोलने तक की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराई जाए. रीट परीक्षा में शामिल हो रहे अभ्यर्थी परीक्षा केन्द्रों पर मोबाइल फोन लेकर नहीं जाएं.

कलेक्टर-एसपी को निर्देश दिए कि रीट परीक्षा के दौरान कानून एवं व्यवस्था बनी रहे यह सुनिश्चित किया जाए. साथ ही वे निरंतर भ्रमण कर व्यवस्थाओं की निगरानी करें. हर जिले में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया जाए ताकि अभ्यर्थी विशेषकर महिला अभ्यर्थी किसी तरह की परेशानी होने पर सूचना दे सकें.