TFI Exclusive: नागर ने नेतृत्व परिवर्तन की चर्चाओं को नकारा, कहा- 123 MLA गहलोत के साथ

The Fact India: पंजाब में नेतृत्व परिवर्तन के बाद अब राजस्थान की सियासत हलचलें तेज है. गहलोत और पायलट कैम्प के बीच एक बार फिर सियासी सरगर्मी तेज है. इसी बीच द फैक्ट इंडिया (TFI Exclusive) से खास बातचीत में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कट्टर समर्थक माने जाने वाले निर्दलीय विधायक बाबूलाल नागर ने नेतृत्व परिवर्तन की चर्चाओं को नकार दिया है. उन्होंने सीएम गहलोत के साथ 123 विधायक होने का दावा किया है.

पंजाब के सियासी घटनाक्रम के बाद अब क्या वैसा ही राजस्थान में हो सकता है? नागर ने कहा कि पंजाब की तरह राजस्थान को नहीं देख सकते हैं यहां का नेतृत्व अशोक गहलोत कर रहे हैं. यहां के हालात अलग है. प्रदेश में 22 -23 विधायक ऐसे हैं जो बिना कांग्रेस के सिम्बल के जीतकर आए और मुख्यमंत्री गहलोत का समर्थन किया. सभी को साथ लेकर जिस तरह गहलोत ने काम किया है हर आम आवाम भी चाहता है कि वो 5 साल मुख्यमंत्री रहे. प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह हथकंडे अपना कर देख चुके हैं लेकिन कामयाब नहीं हो सके. सीएम गहलोत कांग्रेस और राजस्थान के धरोहर हैं. सीएम गहलोत के पास सिर्फ कांग्रेस के ही नहीं बल्कि निर्दलीयों, बसपा और दूसरे सिम्बल से जीत कर आए विधायकों का भी समर्थन है.

गहलोत के कट्टर समर्थक MLA ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर पूछा सवाल तो अधीक्षक ने दिया ये जवाब

मंत्रिमंडल विस्तार में हो रही लेटलतीफी के चलते निर्दलीय विधायकों की नाराजगी की बात को नागर नकारते हुए कहा कि सभी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कामकाज से खुश हैं. 12 13 में से 3 -4 ही मंत्री बन पाएंगे. मैं भी चौथी बार विधायक बना हूं. इस कार्यकाल में जीता काम हुआ उतना कोई और नहीं कर पाता.

वहीं नागर ने पायलट से जुड़े सवाल पर बोलने से इनकार कर दिया. नागर से पूछा गया था कि पायलट के समर्थक कहते हैं कि उनके चेहरे के दम पर ही सत्ता में वापसी की जा सकती है. नागर ने कहा कि हमारी प्राथमिकता क्षेत्र का विकास है. इसमें सीएम गहलोत ने कोई कमी नहीं छोड़ रखी है.

कांग्रेस में चल रही अंतरकलह और आपसी बयानबाजी के सवाल पर नागर ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी पार्टी के नेता है. वो वही निर्णय करते हैं जो विधायकों और जन-जन की भावना होती है. राजस्थान में पंजाब जैसा नहीं हो सकता है. मुख्यमंत्री गहलोत के समर्थन में 123 विधायक हैं. इतना ही नहीं बल्कि विपक्ष के विधायक भी सीएम गहलोत को पूरे 5 साल मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं.