Pushkar : रक्षाबंधन पर पुष्कर में तीर्थ पुरोहित करते हैं विशेष श्रावणी उपाक्रम

The Fact India : भाई और बहन के अटूट विश्वास और पवित्र प्रेम के पर्व रक्षाबंधन पर भाई की कलाई पर बहने रक्षा सूत्र बांधते हैं। और भाई अपनी बहनों को उनकी सुरक्षा का वचन देती है। वही तीर्थ नगरी पुष्कर (Pushkar) में तीर्थ पुरोहित विशेष श्रावणी उपाक्रम स्नान करते हैं । गुरुवार को पुष्कर के स्थानीय तीर्थ पुरोहितों ने पवित्र सरोवर के घाटों पर विशेष श्रावणी स्नान किया । हिंदू धर्म ग्रंथों में ऐसी मान्यता रही है कि श्रावण मास की पूर्णिमा पर दसविद स्नान कर श्रावणी कर्म करने से ब्राह्मणों को ज्ञात और अज्ञात पापों से मुक्ति मिलती है। इसी मान्यता के अनुसार पुष्कर सरोवर के मुख्य घाटों पर सैकड़ों पुरोहितों ने 108 स्नान कर पापों का प्रायश्चित किया। पुष्कर (Pushkar) सरोवर के वराह, बंशी, ब्रह्वां, बद्री घाट पर श्रावणी कर्म करने वाले ब्रह्मणों का तांता लग गया।

Raksha Bandhan 2022 : रक्षाबंधन पर बहनें नौ ग्रहों से मांगती है भाई की खुशहाली

मुख्य आचार्य पंडित रविकांत शर्मा, आचार्य ब्रजेश तिवारी के सानिध्य में किए गए इस अनुष्ठान में पहले दसविद स्नान किया गया । इसके अंतर्गत गौमूत्र, घी, पूसा, स्वर्ण, गोबर, दूध, मृतिका, फल, वनस्पति और दरमा का स्पर्श कर शरीर को पवित्र किया गया । इसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार के साथ अलग-अलग वस्तुओं से स्नान हुए। ब्राह्मण समाज ने शुद्धिकरण और देव कर्म करने का अधिकार प्राप्त करने के लिए इस धार्मिक अनुष्ठान में उत्साह के साथ भाग लिया । श्रावणी कर्म के दौरान सभी हिन्दू देवी-देवताओं को अर्क देकर मानव के कल्याण की कामना की गई । इस अवसर पर देव, ऋषि मुनियों और अपने-अपने आराध्यों को तर्पण भी दिया गया । पुरोहितों के अनुसार श्रावण मास की पूर्णिमा को श्रवण नक्षत्र होने के कारण श्रावणी कर्म करने का विशेष महत्व होता है।

रिपोर्ट- राकेश शर्मा

128 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.