कंगना के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- क्या देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए है?

Owaisi
Owaisi

The Fact India: भारत को 2014 में आजादी मिलने वाले कंगना रनौत के बयान पर सियासी रार लगातार जारी है. अब एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी(Akbaruddin Owaisi) ने कंगना के बयान पर निशाना साधा है. ओवैसी ने अलीगढ़ में एक जनसभा के दौरान कहा कि एक मोहतरमा को हमारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया गया, वो मोहतराम इंटरव्यू में कहती हैं कि भारत को 2014 में आजादी मिली, अगर किसी मुस्लिम ने ऐसा कहा होता तो उसपर यूएपीए लगा दिया गया होता और घुटने पर गोली मारकर उसे जेल में डाल दिया जाता.

हे भगवान! राजधानी लखनऊ में दुधमुंही बच्ची का रेप, हालत नाजुक

कंगना ने कहा था आजादी भीख में मिली है

आपको बता दें कि कंगना रनौत ने एक टीवी प्रोग्राम में यह कहा था कि 1947 में मिली आजादी भीख थी और हमें असली आजादी 2014 में मिली. इस बयान का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसके बाद कंगना ने यह तक कहा कि अगर कोई यह साबित कर दे कि उन्होंने शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है तो वह अपना पद्मश्री पुरस्कार वापस लौटा देंगी.

राजधानी दिल्ली का घुटने लगा दम, लग सकता है संपूर्ण लॉकडाउन

योगी सरकार पर ओवैसी ने कसा तंज

कंगना के बयान पर तंज भरे अंदाज में ओवैसी(Akbaruddin Owaisi) कहते हैं कि वह क्वीन हैं और आप किंग लेकिन आप कुछ नहीं करेंगे. बाबा ने इंडिया-पाकिस्तान टी 20 मैच के बाद टिप्पणी करने वालों को देशद्रोह के आरोप में जेल में डालने की धमकी दी थी. बता दें कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने 24 अक्टूबर को हुए भारत-पाकिस्तान के मैच के बाद पाक की जीत का जश्न मनाने वालों को चेतावनी दी थी.

क्या देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए है?

इसके बाद ओवैसी(Akbaruddin Owaisi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने सवाल किया कि क्या वे कंगना रनौत पर देशद्रोह का आरोप लगाएंगे? ओवैसी ने यह भी पूछा कि क्या देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए है? बता दें कि दिल्ली महिला आयोग की चीफ स्वाति मालीवाल ने रविवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिट्ठी लिखकर कंगना रनौत के बयान को लेकर पद्मश्री पुरस्कार वापस लिए जाने की अपील की थी.