पायलट ने कहा- सरकार होने के बावजूद कांग्रेस पहले 50 और फिर 20 सीटों पर आई…

Sachin-Pilot

The Fact India: दिल्ली से लौटने के बाद आज पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने फोन टैपिंग मामले से लेकर कोरोना दूसरी लहर के दौरान हुई ऑक्सीजन की कमी को लेकर जमकर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला. साथ ही पायलट ने सूबे की सियासत को लेकर भी खुलकर जवाब दिया.

पायलट ने फ़ोन टैपिंग पर कहा आज मेरा है कल आपका हो सकता है. हमने तो मुद्दा संस्थागत बनाया है. इसमें बीजेपी और कांग्रेस वाली बात नही है. जब फ्रांस ने जांच बिठा दी है तो यहाँ क्यो नहीं !

इसके साथ ही पायलट ने ऑक्सीजन की कमी मामले में कहा कि देश मे ऑक्सीजन की किल्लत से मौत नही हुई ऐसा केंद्र सरकार का कहना लोगों के गले नही उतर रहा. कितने लोगों ने दम तोड़ा था. हम सभी ने देखा था. सरकार ने हाहाकार मचने पर क्या किया. पूरी दुनिया ने देखा है.

गहलोत सरकार ने किया प्रशासनिक बेड़े में बड़ा फेरबदल, 11 IAS अफसर बदले

पायलट ने मांग उठाई कि केंद्र सरकार को कोरोना मौत मामले पर एक ऑडिट करवाना चाहिए. जो लोग दुनिया में नहीं रहे. उनकी मौत दुःखद है. ये बोल देना कि मौत नहीं हुई ये तो मौतों के साथ मजाक है. केंद्र सरकार ऑडिट करवाये. कमी नहीं रही तो फिर स्वास्थ्य मंत्री को क्यों हटाया गया ? उन्होंने कहा कि मैं इस मुद्दे को पॉलिटकल नहीं बनाना चाहता हूं. सिर्फ घोषणाएं करने से कुछ नहीं होगा. तीसरी लहर को लेकर उन्होंने कहा कि भारत सरकार थर्ड वेव की व्यवस्था करे. केंद्र सरकार वाइट पेपर जारी करेँ. ताकि 2nd वेव वाली स्थिति रिपीट न हो.

पंजाब और राजस्थान के मसले को लेकर पायलट ने कहा कि राजस्थान के संदर्भ में हमने जो भी डिस्कशन किए थे. वह विस्तार से और इन डेफ्थ डिस्कशन किया था. लगातार सरकार और संगठन को बेहतर करने के लिए जो कदम उठाने हैं एआईसीसी उठा रही है. हम केंद्रीय नेतृत्व के साथ में है बहुत जल्द AICC आवश्यक कदम उठाएगी.

उन्होंने कहा कि हमारी राय आना चाहिए कुछ भी हो. लेकिन मैंने 20 साल में देखा है कि कांग्रेस की जो लीडरशिप निर्णय लेती है उसे स्वीकार किया जाता है. कांग्रेस में सदियों पुरानी परंपरा है. जिसका निराकरण होता है. जब कांग्रेस पार्टी निर्णय लेती है तो सभी कार्यकर्ता सम्मान करते हैं. आने वाले समय में हम रणनीति बनाएंगे. कांग्रेस पार्टी आने वाले 5 राज्यों को लेकर भी डिस्कशन कर रही है. चुनाव कैसे जीते जा सके इसे लेकर डिस्कशन.