अशोक गहलोत की चेतावनी के बाद एक्शन में पुलिस: बेवजह बाहर घूमने वालो को कर रही क्वारंटाइन

Ashok Gehlot

The Fact India: कोरोना रोगियों की संख्या में इजाफा होने के बाद मुख्य्मंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने राजस्थान में “महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़ा” लगाया था। प्रदेश में इसकी अच्छे से पालना हो रही है या नहीं यह पुलिस प्रशासन की जिम्मेदारी है। अब ग्यारह बजे बाद बेवजह घर से बाहर निकलने वाले शख्स को पुलिस अपने स्तर पर क्वारेंटाइन कर रही है और निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही छोड़ रही है। मंगलवार को यह सख्ती ठीक ग्यारह बजे से लागू हो गई। मेडिकल सहित अन्य जायज कारण से बाहर निकलने वालों को छोड़ा जा रहा है। बहानेबाजी करके घूमने वालों के साथ सख्ती हो रही है। अगर आप भी किसी काम से बाहर जा रहे हैं तो प्रमाण साथ लेकर ही निकलें। उधर, कोरोना के चलते जनता अब भी बेपरवाह बनी हुई है, वह बिना काम से बाहर निकल रही है, ऐसा ज्यादातर जगहों पर देखने को मिला।

कोरोना संक्रमण रफ़्तार हुई कम,रोज की तुलना में पॉजिटिव केस घटे, मरीज भी रिकवर ज्यादा हुए

राजधानी में 57 पुलिस थानों के जवान 1064 में तैनात थे। वे घर से बाहर निकलने वालों की पकड़ कर संस्थागत क्वारेंटाइन कर रहे थे। इस दौरान पुलिस ने साफ हिदायत दी कि कोरोना से बचना है तो बेवजह घर से न निकलें। हर आने जाने वाले से पूछताछ की जा रही है, क्यों बाहर निकलें। बेवजह पैदल घूमने वालों तक को पकड़ रही है।

उदयपुर में कोरोना संक्रमित मरीजों की रफ्तार बढ़ने के साथ ही जिला प्रशासन एक्टिव मोड में आ गया है। शहर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 37 हजार को पार कर गया है। जबकि 320 मरीजों के उदयपुर में कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। ऐसे में शहर के बाजार जहां सुनसान नजर आ रहे हैं। वहीं लापरवाह लोगों के खिलाफ उदयपुर पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है। बीते 24 घंटे में उदयपुर पुलिस ने 140 लोगों को क्वारेंटाइन किया है, जो बेवजह सड़कों पर घूम रहे थे।

कोटा शहर के प्रमुख चौराहों पर पुलिस जाब्ता तैनात है 12 बजे से पुलिस बेवजह घूमने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। डेढ़ बजे तक 6 लोगों को पकड़कर क्वारंटाइन सेंटर में पहुंचाया है। पुलिस की सख्ती का असर बाजारों में नहीं दिख रहा है लोगों की आवाजाही नजर आ रही है। पुलिस ने कई जगह समझाइश करके भी घर भेजा है।