दिल्ली में 18 अक्टूबर से “रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ” अभियान

The Fact India: भारत की राजधानी दिल्ली में प्रदूषण (Pollution) पर कंट्रोल पाने के लिए 18 अक्टूबर से एक बार फिर से ‘रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ’ अभियान की शुरुआत की जा रही है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को दिल्लीवासियों से रिक्वेस्ट की है कि वे सप्ताह में एक बार गाड़ियों का इस्तेमाल बंद करें और रेड लाइट पर गाड़ियों का इंजन बंद करके शहर में प्रदूषण को कम करने में मदद करें.

दिल्ली में पड़ोसी राज्यों के द्वारा पराली जलाने के कारण पिछले कुछ दिनों से प्रदूषण बढ़ रहा है. दि‍ल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पड़ोसी राज्यों में पराली जलने से दिल्ली में अब प्रदूषण बढ़ रहा है. दि‍ल्ली में बढ़ते प्रदूषण को रोकने और उस पर काबू पाने के लि‍ए दिल्ली सरकार हर  संभव कोशिश कर रही है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब यह समय आ गया है कि दिल्लीवासियों को प्रदूषण कम करने की जिम्मेदारी खुद ही लेनी चाहिए. साथ ही यह भी आवश्यक है कि प्रत्येक व्यक्ति ये जिम्मेदारी ले और स्थानीय स्तर पर पैदा होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए 18 अक्टूबर से शुरू होने वाले ‘रेड लाइट ऑन गाड़ी ऑफ’ अभियान में योगदान दें.

गुटखे के निशान और पटरियों की सफाई के लिए रेलवे ने खोजे खास उपाय

विशेषज्ञों का कहना है कि रेड लाइट पर वाहन के इंजन बंद रखने से 250 करोड़ रुपये की बचत हो सकती है और करीब 13-20 % तक प्रदूषण (Pollution) भी कम हो सकता है. लोगों को सप्ताह में कम से कम एक बार अपना वाहन नहीं निकाने और मेट्रो,  बस,  या दूसरों के साथ कार पूल करने का निर्णय लेने से काफी फायदा हो सकता है.