भाजपा की सियासी खिंचात पर बोले पूनिया चुनाव नजदीक नहीं लिहाजा नेतृत्व का सवाल उठाना गलत

The Fact India: राजस्थान में कांग्रेस जितनी सियासी खींचतान से जूझ रही कमोबेश उतनी ही खींचतान से भाजपा भी जूझ रही है. मुख्यतः भाजपा में वसुंधरा समर्थक और वसुंधरा विरोधी गुट सक्रीय है. प्रदेश में भले ही अभी चुनावों में वक्त हो लेकिन CM फेस को लेकर तकरार (BJP Rift) अभी शुरू हो गई है. इसी बीच भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का भी बयान सामने आया. पूनिया ने कहा कि ऐसे बयानों से पार्टी की सेहत, नीति और निर्णय पर कोई फर्क नहीं पड़ता है.

शादी समारोह में किरोड़ी और इंदिरा मीणा ने जमकर लगाए ठुमके, टुटा कोरोना प्रोटोकॉल

पूनिया ने एक बार फिर गुटबाजी के सवाल पर कहा कि वर्तमान में चुनाव नजदीक नहीं है. ऐसे में अभी नेतृत्व का सवाल उठाना गलत होगा. आलाकमान जिसके भी नेतृत्व में चुनाव लड़ने का निर्णय करेगा सभी कार्यकर्ता एकजुट होकर उसका समर्थन करेंगे. उन्होंने इन मुद्दों पर बार-बार बयान जारी करते करने वाले नेताओं को नसीहत (BJP Rift) देते हुये कहा कि संगठन की बात को पार्टी फोरम पर रखना ही उचित होगा.

टोडाभीम में अवैध ब्लास्टिंग के विरोध में युवा संघर्ष समिति ने निकाली रैली

गहलोत सरकार पर भी हमलावर होते हुए पूनिया ने कहा है कि वर्तमान कांग्रेस सरकार जुगाड़ पर चल रही है. इसके लिये पूनिया ने पूर्वी राजस्थान में चलने वाले जुगाड़ का जिक्र करते सरकार की तुलना उससे की. मीडिया से बातचीत करते हुये पूनिया में एक बार फिर प्रदेश में मध्यावधि चुनाव की आशंका जाहिर की है. सतीश पूनिया ने प्रदेश सरकार को वेंटिलेटर से भी बुरी स्थिति में बताया. पूनिया ने कहा कि कांग्रेस का आंतरिक लोकतंत्र ही पूरी तरह से खत्म हो चुका है.