किसान संसद में कृषि कानूनों के खिलाफ पास हुआ प्रस्ताव, अब जिलेवार होगा आयोजन

The Fact India: कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने बुधवार को राजधानी जयपुर में किसान संसद (Kisaan Sansad) लगाईं. बिरला ऑडिटोरियम में विशेष सत्र के दौरान कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पास किया गया. इसमें देश की सरकार को बताया गया कि देश का किसान भी संसद चला सकता है.

गुड गवर्नेंस को धरातल पर जानने के लिए खुद CS Niranjan Arya करेंगे औचक निरक्षण

इस दौरान किसान नेता हिम्मत सिंह ने कहा कि किसान संसद के माध्यम से केन्द्र की सरकार को यह बताया जा रहा है कि किसान भी संसद चला सकते हैं. यह भी बताया कि कैसे संसद में मर्यादित रूप से चर्चा हो सकती है. जयपुर के सफल आयोजन के बाद अब हर जिले में भी किसान संसद बुलाई जाएगी और केन्द्र सरकार पर तीनों कानूनों को वापस लेने का दबाव बनाया जाएगा. संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर हो रही इस किसान संसद में कई राज्यों के किसान नेता और विभिन्न किसान संगठनों से प्रतिनिधि मौजूद रहे.

भाजपा MLA ने कहा Mini Pakistan बनते जा रहे ब्रज और मेवात तो डोटासरा-खाचरियावास भड़के

किसान नेता रणजीत सिंह राजू ने कहा कि हमने ओपन सत्र (Kisaan Sansad) रखा था. इसमे ऐसा नहीं था कि जिसे आमंत्रित किया वो ही शामिल होगा. बीजेपी, आरएएस या जो भी कृषि कानून के पक्ष में बात रखना चाहे उनका भी स्वागत किया गया था. लेकिन कोई नहीं आया.