पुष्कर के पवित्र सरोवर में जा मिला सीवरेज का गंदा पानी, लोगों की आस्था से खिलवाड़

The Fact India: हिंदू आस्था के सबसे प्राचीन तीर्थ जहां से सृष्टि की उत्पत्ति मानी जाती है. जहां विश्व का एकमात्र चतुर्मुख ब्रह्मा का शंकराचार्य द्वारा स्थापित मंदिर है. यह वही तीर्थ है जहां राम कृष्ण जैसे अवतारों की चरण रज पड़ी. जहां विश्वामित्र जैसे ऋषि तप करके ब्रह्म ऋषि बने. यह वही तीर्थ है जहां देश ही नहीं दुनिया भर से करोड़ों हिंदू आस्था का दामन थाम बड़ी श्रद्धा से अपना शीश नवाने आते हैं. यही पुष्कर (Pushkar) तीर्थ अब प्रशासनिक उदासीनता और राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी के चलते दुर्दशा के दंश झेल रहा है. आस्था और मर्यादाओं की बात तो क्या करें, जिस जल का आचमन कर श्रद्धालु आत्मा को पवित्र करते हैं. जिस जल से पुष्कर के हजारों मंदिरों में भक्त अपने आराध्य को स्नान कराते हैं. उसी पवित्र सरोवर के जल में एक बार फिर सीवरेज का गंदा पानी मिल रहा है.

पुष्कर सरोवर के जयपुर घाट पर सीवरेज का पानी ओवरफ्लो होकर सरोवर में जा मिला.  जिससे सरोवर में आस्था रखने वाले करोड़ों हिंदुओं की भावना को ठेस पहुंची है. स्थानीय तीर्थ पुरोहितों ने इस घटना पर नाराजगी जताते हुए प्रशासन से इसके स्थाई निदान की मांग की है. मौके पर मीडिया के पहुंचने के बाद मिट्टी लगाकर पानी को रोकने के प्रयास किये गए. यह पहला मामला नहीं है जब सरोवर के इस पवित्र जल में दूषित जल मिला हो. इससे पूर्व भी कई बार ऐसा नजारा पुष्कर में देखने को मिला है.

अक्षय कुमार को भाया राजस्थान, रणथंभौर में मनाई मैरिज एनिवर्सरी, गायों को दुलारा

सीवरेज की इस ज्वलंत समस्या के निदान को राजनैतिक दलों ने महज चुनावी मुद्दे तक सीमित कर रखा है. इसका उदाहरण यही है कि बीते 7 सालों से पालिका बोर्ड में सत्ता का सुख भोग रही भाजपा अब इस समस्या के निराकरण नहीं होने का ठीकरा कांग्रेस के सिर फोड़ रही है. वहीं दूसरी ओर कांग्रेस भाजपा के बोर्ड पर अकर्मण्यता के आरोप लगाते हुए विकास कार्यो को अवरुद्ध करने की बात कह रही है.  इस संबंध में जब नगर पालिका के अधिशास अधिकारी अभिषेक गहलोत से बात की तो उन्होंने बताया कि सीवरेज की समस्या के स्थाई निदान के लिए राज्य सरकार द्वारा डीपीआर के लिए राशि आवंटित कर दी गई है. जल्द ही इस समस्या का स्थाई निदान खोज लिया जाएगा. अधिशाषी अधिकारी अभिषेक गहलोत ने बताया कि फिलहाल पालिका पुष्कर (Pushkar) के कर्मचारी लगातार सीवरेज ब्लॉक को निकालने का प्रयास कर रहे है.

पुष्कर से राकेश शर्मा की रिपोर्ट