राजस्थान को ‘चोखो बजट’: बिजली पर की बड़ी घोषणाएं

The Fact India: राजस्थान के मुख्यमंत्री ने इस बार जो शायरी के साथ बजट पेश किया है… उसने वाकई में राजस्थानियों को राहत से भर दिया है.. अब देखिए बजट में मुख्यमंत्री ने सभी को शामिल किया… चाहे वो बेरोजगारों का रोजगार हो… महिलाओं के लिए स्मार्टफोन्स हो… कृषि के लिए अलग बजट (Rajasthan Budget) हो.. या मुफ्त बिजली हो.. जी हां मुफ्त बिजली… दिल्ली सरकार की तर्ज पर अब राजस्थानवासियों को भी मुफ्त बिजली मिलेगी.. कितनी और कैसे ये आपको आज हम बताने जा रहे है.. आमजन के लिए बिजली की समस्या का निवारण करने के लिए गहलोत सरकार ने कई बड़े ऐलान किए है… अब राज्य में 100 यूनिट तक बिजली इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को 50 यूनिट तक बिजली मुफ्त दी जाएगी… इसके अलावा बजट में यह भी प्रस्ताव दिया गया है… कि राज्य के सभी घरेलू उपभोक्ताओं को 150 यूनिट तक 3 रुपए प्रति यूनिट औऱ 150 से 300 यूनिट तक के 2 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली दी जाएगी… वहीं 300 यूनिट से अधिक बिजली इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को स्लैब के हिसाब से छूट दी जाएगी… राजस्थान सरकार ने जो बिजली पर घोषणाएँ की है… उससे सरकार पर 4 हजार 500 करोड़ रूपए खर्च का भार आएगा… वही प्रदेश सरकार की इस घोषणा के बाद राज्य के करीब एक करोड़ 18 लाख घरेलू उपभोक्ताओं को फायदा होगा.

पुष्कर में 14 मार्च से खुलेंगे इजराइली धर्मस्थल, बेथ खबाद खोलने के आदेश जारी

सीएम ने ट्वीट भी किया-  कोरोना काल में सभी वर्ग के परिवार आर्थिक रूप से प्रभावित हुए हैं,मैं अल्प-आय वर्ग के साथ-साथ समस्त 118 लाख घरेलू उपभोक्ताओं को राहत देने की दृष्टि से आगामी वर्ष 100 यूनिट प्रतिमाह तक बिजली का उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं को 50 यूनिट तक बिजली निःशुल्क उपलब्ध करवाने की घोषणा करता हूं.

अब बिजली की बात हो ही रही है… तो किसानों के लिए भी इसमें बड़ी घोषणाएं की गई है… किसानों को अब दिन में भी बिजली मिल सकेगी.. बिजली उत्पादन की लागत में कमी लाने के लिए छबड़ा तापीय विद्युतघर का विस्तार करने के साथ ही कालीसिंध, झालावाड़ तापीय बिजली परियोजना का  विस्तार करते हुए अल्ट्रासुपर क्रिटीकल तकनीकी आधारित 800 मेगावाट की तीसरी इकाई स्थापित करने की घोषणा की गई है…. वहीं गुढ़ा बिकानेर में 950 करोड़ की 125 मेगावाट की लिग्नाइट कोयला आधारित तापीय विद्युत परियोजना स्थापित की जाएगी. प्रदेश के विद्युत वितरण तंत्र में परिचालन हानि एटीएनसी की ओर से कमी लाने के लिए कई काम करवाए जाएंगे. इसके अलावा 3565 करोड़ रुपये की लागत से 48 लाख उपभोक्ताओं के प्री पेड मीटर लगाए जाएंगे. वर्तमान में प्रदेश में 16 जिलों में किसानों को दिन में बिजली मिल रही है जिसके बाद अब बचे हुए 17 जिलों में भी किसानों को दिन में बिजली दी जाएगी.

इस बार का बजट इतिहास का सबसे लंबा (Rajasthan Budget) बजट रहा… जैसा कि सीएम ने बजट पेश करने से पहले कहा था… कि जो चाहे मांग लो… बजट देख यही लग रहा है… कि दिवाली या क्रिसमस का त्यौहार मनाया गया हो… और तोहफो पर तोहफो से जनता को लाद दिया गया हो… कागजों में तो ये बजट काफी खूबसूरत है… बस देखना ये है धरातल पर ये कब तक उतरेगा और कितना खरा उतरेगा.

2 Views