राजस्थान: किसानों के अरमानों पर कुदरत का कहर, ओलावृष्टि से फसलें चौपट

Rajasthan

The Fact India: राजस्थान प्रदेश (Rajasthan) के हाड़ौती संभाग में शुक्रवार को कुदरत का बड़ा कहर देखने को मिला. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक कोटा संभाग के चारों जिलों में कहीं हल्की तो कहीं तेज आंधी के साथ बारिश और ओलावृष्टि हुई. मंडियों में बिकने जाने को तैयार खेतों में खड़ी और कटी फसलें बारिश और ओलावृष्टि से बर्बाद हो गईं. इस आसमानी आफत यानी बारिश और ओलावृष्टि से कोटा जिले में किसानों को सबसे ज्यादा आर्थिक नुकसान गेहूं, चना, धनिया, सरसों और लहसुन की फसल बर्बाद होने से हुआ है.

किसानों के अरमानों पर फिरा पानी
कोटा जिले (Rajasthan) के कनवास, सांगोद उपखंड क्षेत्र में कुदरत का कहर बरपा. आसमान से आफत के रूप में मूसलाधार बारिश हुई, जबरदस्त ओलावृष्टि हुई. और दोनों उपखंड के दर्जनों गांवों में इससे किसानों के आर्थिक उन्नति के अरमान पलभर में काफूर हो गए. 20 मिनट की बारिश ने बरसाती नालों में उफान ला दिया. गांव के गलियारों में, सड़कों पर, घरों के आंगन और छप्पर पर, हर तरफ सफेद ओलों की चादर दिखाई दी. बरसाती नालों में आये उफान के बाद खेतों में कटकर पड़ी फसलें तक पानी के तेज बहाव में बह गईं.

देखते..देखते फसल हुई बर्बाद
कनवास उपखंड क्षेत्र (Rajasthan) के उरना गांव के रहने वाले किसान प्रेमशंकर गोचर ने कहा कि गांव में शुक्रवार शाम 5:30 बजे तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हुई. किसान की आंखों के सामने चने के आकार के ओले गिरने लगे, और 20 मिनट में ही सबकुछ तबाह हो गया. बारिश के साथ ओलों की चादर बिछ गई.