पतियों ने रखी निगरानी , फिर भी लुटेरी दुल्हनें हो गई फरार

The Fact India: राजस्थान के नागौर जिले में मामा-भांजे की लुटेरी दुल्हनें (Robber Brides) शादी के सिर्फ 15 दिन बाद ही रुपए और जेवरात लेकर भाग गई. यह घटना एक महीने पहले की है. परिवार दोनों बहुओं को घर लाने के लिए मान मनुहार करता रहा,  बात नहीं बनी तो मामला थाने तक पहुंचा. 18 अगस्त को एक एग्रीमेंट के बाद दोनों की शादी हुई थी. पीड़ित नागौर जिले के जावला गांव में रामदयाल की आटा चक्की है, जबकि दीपेश प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा है. दोनों की शादी दीपाली और रमा नाम की महिलाओं से हुई थी, दोनों नागपुर की रहने वाली है. परिवार को शादी के बाद से ही इन दोनों दुल्हनों पर शक हो गया था.

पतियों ने दोनों को नए मोबाइल दिलवाए और उसमें एक क्लोनिंग ऐप डाउनलोड कर दिया. यह एक ऐसा ऐप था, जिसके जरिए दोनों बहनों के कॉल डिटेल समेत मैसेज और दूसरी जानकारी इनके मोबाइल पर आ जाती थी,  लेकिन दोनों इतनी शातिर निकलीं कि चकमा देकर रात 2 बजे फरार हो गईं.

20 हजार से अधिक बिजली बिल पेमेंट्स का अब हो सकेगा चेक या डीडी से भुगतान

दरअसल,  नागौर जिले के जावला गांव के दीपेश और उसके मामा रामदयाल, सुरसुरा के रहने वाले को एक परिचित ने शादी के लिए दलाल दंपती के बारे में बताया था. 10 अगस्त को वकील मोहम्मद और उसकी पत्नी आलिया की दोनों मामा-भांजे से जावला गांव में बातचीत हुई. 2 दिन बाद अजमेर में मामा-भांजे को लड़कियां दिखाई गईं. जिसके लिए 5 लाख रुपए में सौदा किया और नागपुर निवासी दीपाली और रमा से मुलाकात करवाई. इसके बाद 18 अगस्त को एग्रीमेंट कराकर मंदिर में शादी कर ली.

ऐसे दिया घटना को अंजाम

घटना वाले दिन 2 सितंबर को रामदयाल की पत्नी रमा अपनी बहन दीपाली से मिलने का कहकर रामदयाल के साथ जावला में दीपेश के घर आ गई. देर रात दीपाली और रमा ने रामदयाल और दीपेश के लिए दूध गर्म किया था और उसमें नशीली गोलियां देकर मामा-भांजे को बेहोश कर दिया. इसके बाद नकदी और सोने के मंगलसूत्र और पाजेब के अलावा मोबाइल लेकर भाग गईं. अगले दिन सुबह आंख खुली तो दोनों की पत्नियां घर में नहीं थीं. घटना वाली रात भी नशीलीं दवाई देकर रात 2 बजे दलाल को फोन किया. घर के दरवाजे बंद थे तो चुनरी बांधकर छत से नीचे उतरीं और दलाल के साथ फरार हो गईं. इसके बाद उन्हें रेलवे स्टेशन छोड़ दिया गया.