Safla Ekadshi: इस तारीख को रखा जाएगा सफला एकादशी का व्रत, ऐसे करें पूजा

Ekadashi tithi
Ekadashi tithi

The Fact India: सर्दियों के पौष मास में ही सफला एकादशी (Safla Ekadshi) का व्रत कृष्ण एकादशी को रखा जाता है. इस व्रत को करने से व्यक्ति को दीर्घायु के साथ साथ मनचाहे परिणाम भी प्राप्त होते हैं कहते हैं की इस व्रत को करने से व्यक्ति को हर तरह की सुख सुविधा भी प्राप्त होती है. आज हम आपको बताएँगे सफला एकादशी की तारीख, पूजा और खास मंत्र.

आपको बता दें, सफला एकादशी जनवरी माह की 9 तारीख को मनाई जाएगी. उसी दिन इसका व्रत रखा जाएगा.

इस दिन कैसे करें उपासना?
सुबह या सायं काल श्री हरि का पूजन करें. मस्तक पर सफेद चन्दन या गोपी चन्दन लगाकर श्री हरि का पूजन करें. श्री हरि को पंचामृत, पुष्प और ऋतु फल अर्पित करें. चाहें तो एक वेला उपवास रखकर एक वेला पूर्ण सात्विक आहार ग्रहण करें. शाम को आहार ग्रहण करने के पहले जल में दीपदान करें. आज के दिन गर्म वस्त्र और अन्न का दान करना भी विशेष शुभ होता है.

संतान प्राप्ति की सफलता के लिए
आज के दिन श्री हरि को पंचामृत चांदी के पात्र में अर्पित करें. इसके बाद 108 बार “ॐ नमो नारायणाय” का जाप करें. पंचामृत को प्रसाद के रूप में ग्रहण करें.

अपनी सुरक्षा और रक्षा के लिए
रेशम का एक पीला धागा श्री हरि को अर्पित करें. इसके बाद उस धागे को हाथ में लेकर “रां रामाय नमः” का 108 बार जाप करें. जाप के बाद धागे को दाहिने हाथ में बांध लें. महिलाएं इस धागे को बाएं हाथ में बांधें.

उत्तम स्वास्थ्य के लिए
श्री हरि को मौसम के फल (ऋतु फल) अर्पित करें. इसके बाद 108 बार “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” का जाप करें. फल को प्रसाद के रूप में ग्रहण करें. अगर कोई रोगी व्यक्ति इस फल को ग्रहण करता है तो वह स्वस्थ होगा.

आर्थिक पक्ष और कारोबार में सफलता के लिए
श्री हरि की पूजा , लक्ष्मी जी के साथ संयुक्त रूप से करें. मां लक्ष्मी को सौंफ और श्री हरि को मिसरी अर्पित करें.

इस मंत्र का करें उच्चारण
“ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीवासुदेवाय नमः” का 108 बार जाप करें. (Safla Ekadshi)सौंफ और मिसरी को एक साथ रख लें. रोज प्रातः ग्रहण करें.