वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान का हार्ट अटैक से निधन, पत्रकारिता जगत में दौड़ी शोक की लहर

The Fact India: उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान(RIP Kamal Khan) आज इस दुनिया को अलविदा कह गए. वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान का शुक्रवार सुबह करीब साढ़े सात बजे हार्ट अटैक से निधन हो गया. वह अपने पीछे पत्नी रुचि और बेटे अमन को छोड़ गए हैं. खान एनडीटीवी के एग्जीक्युटिव एडिटर थे. पत्रकारिता में शानदार योगदान के लिए उन्हें रामनाथ गोयनका और राष्ट्रपति के हाथों गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से नवाजा गया.

एनडीटीवी ने ट्वीट कर दी जानकारी

एक ईमेल में एनडीटीवी ने सूचना देते हुए लिखा कि एनडीटीवी के लिए यह बेहद खराब दिन है. हमने कमाल खान (RIP Kamal Khan) को खो दिया है. वह 61 साल के थे और हमारे लखनऊ ब्यूरो की आत्मा थे. एनडीटीवी के एक दिग्गज के पास उनसे मिलने वालों के लिए असीम समय और अच्छे शब्द थे. चैनल की ओर से कहा गया है कि वह एक अद्भुत इंसान थे. 

पत्रकारिता जगत में दौड़ पड़ी शोक की लहर

कमाल खान(RIP Kamal Khan) के निधन से पत्रकारिता जगत में शोक की लहर दौड़ पड़ी है. कमाल खान के पुराने मित्र और वरिष्ठ पत्रकार उनके यूं अचानक निधन पर शोक और हैरानी जताते हुए कहा कि कमाल अपने नाम की तरह की कमाल के शख्स थे. वह बेहद सहज और सरल स्वभाव के व्यक्ति थे. कमाल खान के निधन पर राजनीतिक दलों और नेताओं ने भी शोक जाहिर किया है. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी दुख जाहिर करते हुए परिवार और चाहने वालों के लिए संवेदनाएं व्यक्त कीं.

गजब की थी कमाल खान की भाषा शैली

वरिष्ठ पत्रकार कमाल खान(RIP Kamal Khan) की भाषा शैली, बोलने और लिखने का अंदाज बेहद शानदार था. टीवी देखने वाला लगभग हर शख्स उनकी इस कला का मुरीद था. कमाल खान जितना अच्छा बोलते और लिखते थे उतना ही उन्हें फोटोग्राफी करने का भी शौक था.