बिजली पर सिद्धू के बयान ने फैलाया कैप्टन गुट पर करंट

Sidhu's statement

The Fact India: पंजाब कांग्रेस की कलह थमने का नाम नहीं ले रही है. एक बार फिर से कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार पर दबाव बनाते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने पावर पर्चेज अग्रीमेंट यानी पीपीए को गड़बड़ी से भरा बताते (Sidhu’s statement) हुए इसे रद्द करने की मांग की है. सिद्धू ने सोमवार को ट्वीट करते हुए पंजाब विधानसभा के एक दिवसीय सत्र की अवधि को 5 से 7 दिनों तक बढ़ाने की मांग भी की ताकि पीपीए को रद्द करने के लिए कानून लाया जा सके. 

18 सूत्रीय एजेंडा पर बोले सिद्धू

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के मौके पर 3 सितंबर 2021 को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया है. सोमवार को ट्विटर पर पोस्ट किए अपने वीडियो (Sidhu’s statement) में पंजाब कांग्रेस चीफ सिद्धू ने 18 सूत्रीय एजेंडा के बारे में बताया, जिसे मुख्यमंत्री के सामने रखा गया है.

विधानसभा का सत्र बुला की मांग

सिद्धू ने वीडियो (Sidhu’s statement) जारी करते हुए कहा कि पंजाब सरकार को तुरंत राज्य बिजली विनियामक आयोग यानी PSERC को जनहित में यह निर्देश देना चाहिए कि वह निजी पावर प्लांटों को दिए जा रहे टैरिफ पर पुनर्विचार करे और पीपीए को रद्द करे. इसके अलावा गड़बड़ियों से भरे पीपीए को रद्द करने का कानून लाने के लिए विधानसभा का 5-7 दिनों का सत्र भी बुलाया जाए. सिद्धू ने कहा कि इससे पंजाब सरकार सामान्य श्रेणी सहित राज्य के हर तबके को 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली दे पाएगी. आपको बता दें कि पंजाब में दलितों को सब्सिडाइज्ड बिजली मिलती है.

53 Views