ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच बच्चों का रखे विशेष ध्यान, बनाए इम्यूनिटी बढ़ाने वाली स्मूदी

The Fact India: कोरोना वेरिएंट ओमिक्रॉन का खतरा बढ़ता ही जा रहा है. बच्चों कि बात करें तो तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा घातक बताई जा रही है. हालांकि बच्चों का वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है. लेकिन खानपान के जरिए इम्यूनिटी बढ़ाना भी महत्तवपूर्ण है. लेकिन बच्चे काढ़ा जैसी कढ़वी चीजें भी नहीं पी सकते. ऐसे में आज हम आपको वो हेल्दी फूड्स जिन्हें बच्चे चाव से खाएंगे (Smoothie) भी और उनकी इम्यूनिटी भी स्ट्रॉन्ग होगी.

क्रूसिफेरस फूड्स के फायदे

पौधों से मिलने वाले फूड्स इम्यूनिटी सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाते हैं. साथ ही इसमें बीमारियों और दीर्घकाली रोगों से बचाने वाले तत्व भी मौजूद होते है. वहीं कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते है जिनमें तत्वों की मात्रा अधिक होती है. जैसे- मशरुम, लहसून, प्याज, अनार, बेरी आदि. हरी सब्जियां केले, ब्रोकली, और पत्तागोभी को भी क्रूसिफेरस सब्जियों में माना जाता है.

सब्जियों जब ब्लेंडर में ब्लेंड की जाती है तो इनकी कोशिकाओं की दीवार तूट जाती है. जिससे केमिकल रिएक्शन होता है. इससे इसोथिओसाइनेट नामक त्तत्व पैदा होता है. जो इम्यूनिटी को बढ़ाने में काम आता है.

स्मूदी

ज्यादातर बच्चे हेल्दी और हरी सब्जियां नहीं खाते है. ऐसे में आप बच्चों को कुछ टेस्टी तरीके से ये सब चीजें खिला सकती है. जैसे स्मूदी- क्योंकि बच्चों को स्मूदी बहुत पसंद होती हैं इसलिए आप इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूड्स की स्मूदी बनाकर बच्चों को पिला सकती हैं.

स्मूदी कैसे बनाएं

हम आपको हेल्दी और इम्यूनिटी बढ़ाने वाली स्मूदी (Smoothie) के बारे में बता रहे हैं – इसके लिए आप सबसे पहले दो कप अनार का रस ले, दो कप कटा हुआ केला, दो कप मिक्स बैरीज (फ्रोजन), दो चम्मच पिसी हुई अलसी.

सभी चीजों को मिक्सी में डालकर स्मूद तक होने तक ब्लेंड कर लें. स्मूदी तैयार होने के बाद इसमे आप ड्राई फ्रूट्स डालकर भी सर्व कर सकती है.

स्मूदी में – 125 कैलोरी, 27 ग्राम काब्रोहाइड्रेट, 2 ग्राम प्रोटीन, 2 ग्राम फैट, 15 मिलीग्राम सोडियम, 3 ग्राम फाइबर और 22 ग्राम शुगर होती है.

 फायदे

अनार के जूस में एंटीऑक्सीडें और एंटी-कैंसर गुण पाए जाते है. जो कि कैंसर से बचाव और कैंसर के इलाज में काम आते हैं. साथ ही यह बैक्टीरियल इंफेक्शन और यूवी किरणों से स्किन को होने वाले नुकसान से भी बचाता है.

अनार के रंग कि तरह दिखने वाली रसभरी ब्लैकबैरी और ब्लूबैरी भी बहुत लाभ पहुंचाती हैं. रसभरी ब्लैकबैरी और ब्लूबैरी, दोनों ही वायरस को रोकने की क्षमता रखती है. अलसी कई रोगों के लिए कारगर होती हैं. इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड के साथ इम्यूनिटी बढ़ाने वाले लिगनेन भी होते हैं जो कि एस्ट्रोडन रिसेप्टर्स के साथ मिलकर एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है.