सोलंकी का दावा- उन्हें हनी ट्रैप में फंसाया जा सकता है… महिलाओं के वीडियो भेजे गए

The Fact India: जयपुर जिला प्रमुख के चुनाव से शुरू हुआ कांग्रेस का अभी खत्म नहीं हुआ है. सचिन पायलट कैम्प के माने जाने वाले चाकसू विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने क्रॉस वोटिंग मामले में अपनी सफाई पेश करते हुए पंचायतीराज चुनाव प्रभारी गोविंद राम मेघवाल पर ही सवाल खड़े कर दिए. साथ ही सोलंकी ने हनी ट्रैप (Solanki claims) में भी फंसाएं जाने की आशंका जताई है.

दरअसल वे प्रकाश सोलंकी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि पंचायत चुनाव में क्रॉस वोटिंग को लेकर पर्यवेक्षक ने 24 घण्टे में ही उनके खिलाफ रिपोर्ट बनाकर दिल्ली भेज दी. उन्होंने कहा कि पहली बार ऐसा हुआ कि रिपोर्ट आनन-फानन में भेजी गई और उनसे चर्चा तक नहीं की गई. उन्होंने कहा कि मैं भरतपुर जिले का इंचार्ज रहा हूं. मैंने जाहिद जी की शिकायत की थी, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. जबकि मुझ पर जल्दबाजी में आरोप भी लगा दिये और रिपोर्ट भी 24 घंटे में भेज दी गई.

रीट परीक्षा के दिन 24 सितंबर को दक्षिण राजस्थान में हिंसा की आशंका, इंटेलिजेंस ने किया अलर्ट

गोविंद मेघवाल पर निशाना साधते हुए सोलंकी ने कहा कि वे बीएसपी, भाजपा सभी दलों में घूमकर आए हैं, हमने 50 लोगों के लिए रिसोर्ट बुक कराया उसके बाद भी वे नहीं आए. सोलंकी ने कहा कि मेरे विरोधियों को बैठाकर मुझ पर आरोप लगाए जा रहे हैं, जिन लोगों को वे आगे कर रहे हैं उन्होंने एक भी व्यक्ति के पक्ष में प्रचार नहीं किया. भाजपा की बाड़ाबंदी में जो नेता थे उन्हें तत्काल सजा मिलनी चाहिए, अगर मेरे खिलाफ तथ्य मिलें तो मुझपर भी कार्रवाई होनी चाहिए. गोविद मेघवाल पर आरोप लगाते हुए सोलंकी ने कहा कि उन्होंने खुद पता नहीं किस-किस पार्टी से चुनाव लड़ा है और वे मुझसे सर्टिफिकेट मांग रहे हैं.

इसके साथ ही सोलंकी ने एक चौकाने वाला दावा (Solanki claims) करते हुए कहा कि मुझे फंसाने के लिए महिलाओं तक की ओर से मैसेज भेजे, वीडियो भेजे गए. यहां फंसाने के लिए सब तरह के हथकंडे अपनाए जाते हैं. इसको लेकर मैंने पीएसओ के जरिए बजाज नगर थाने में परिवाद भी भिजवाया था. हालांकि अभी तक इस मामले में रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस मामले में ज्यादा जानकारी बजाज नगर थाने से ही मिल सकती है. इस मामले में मैंने एसपी और पुलिस कमीशनर से भी चर्चा की थी.

बाबूलाल नागर का जिक्र करते हुए सोलंकी ने कहा कि टिकट वितरण बाबूलाल नागर और मेरी सहमति से वितरित किए गए लेकिन उसमें दोषी केवल मुझे ठहराया जा रहा है. इन्होंने रिपोर्ट भी ऐसे लोगों के साथ मिलकर बनाई है, जो कांग्रेस पार्टी के साथ नहीं थे, उनको लेकर मैंने पहले भी शिकायत दे दी थी. मैंने जहां बात पहुंचाने थी, वहां तक बात पहुंचा दी है. ऐसे लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए. मैं कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं और कांग्रेसी को बढ़ाने के लिए काम करता हूं.