कई जगह राहत बनकर बरसे मेघ तो कई जगह आफत बन गए

The Fact India : राजस्थान में मानसून (Monsoon) एक बार फिर से सक्रिय हो गया है. ऐसे में मौसम केंद्र जयपुर ने गुरुवार को राज्य के अलग-अलग हिस्सों में सामान्य से भारी बारिश की संभावना जताई है. इस पूर्वानुमान के अनुसार अलवर, बांसवाड़ा, बारां, भरतपुर, बूंदी, चितौड़, धौलपुर, डूंगरपुर, झालावाड़, करौली, कोटा, प्रतापगढ़ और सवाईमाधोपुर जिले में कहीं कहीं भारी बारिश के आसार जताये गये हैं. वहीं अजमेर, भरतपुर और जयपुर समेत उदयपुर तथा बीकानेर संभाग के अधिकांश इलाकों में बारिश की संभावना है. जयपुर में तो सुबह-सुबह ही बारिश का दौर शुरू हो गया है. इससे पहले बुधवार को भी राजस्थान के विभिन्न इलाकों में बादल जमकर बरसे. राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन सिरोही जिले में स्थित माउंट आबू में भी बुधवार को रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई.

प्रदेश के दस से ज्यादा जिलों में जारी है बारिश का दौर
इससे पहले बुधवार को माउंट आबू में अतिभारी सहित कई जिलों में भारी बरसात के बाद मानसून के मेघों की मेहरबानी आज भी शुरू हो गई है. जो सीकर के नीमकाथाना, अजीतगढ़ व अलवर के आसपास के इलाकों में सुबह से जमकर बरस रहे हैं. इस बीच मौसम विभाग ने आज प्रदेश के 14 जिलों में भारी बरसात का अलर्ट घोषित कर रखा है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सोच युवाओं के प्रति सकारात्मक – लाम्बा

जुलाई माह में राजस्थान में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई है

राजस्थान में मानसून (Monsoon) इस बार झूमकर बरस रहा है. जुलाई माह में राजस्थान में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई है. बीते 66 साल में राजस्थान में पहली बार जुलाई में इतनी बारिश हुई है. राजस्थान के दो जिलों को छोड़कर शेष 31 जिलों में जुलाई में बारिश ने नये रिकॉर्ड कायम किये हैं. श्रीगंगागनर जिले में तो जुलाई माह में पूरे सीजन जितनी बारिश हो चुकी है. राजस्थान में भारी बारिश के कारण जोधपुर, हनुमानगढ़ और कोटा में एक-एक बार बाढ़ के हालात बन चुके हैं.

राजस्थान में बारिश से नदी नाले उफान पर हैं
राजस्थान में मानसून की लगातार हो रही बारिश से नदी नाले उफान पर हैं. ताल तैलया भर चुके हैं. कई जगह भारी बारिश के कारण कई बार मार्ग बाधित हो चुके हैं. कई इलाकों में बारिश अब मुसीबत बनने लग गई हैं. बारिश के चलते करीब डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोग अपनी जान गवां चुके हैं. बारिश के इस अप्रत्याशित रूप को देखकर राज्य सरकार ने सभी जिला कलेक्टर्स को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दे रखें हैं. वहीं एसडीआरएफ और एनडीआरएफ के जवानों को मुस्तैद किया हुआ है.

71 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published.