Madhya Pradesh : चार मजदूरों की यूं बदल गई किस्मत, खदान से मिला 40 लाख का हीरा

The Fact India : कहते हैं कि जब भगवान देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है और ऐसा ही कुछ हुआ है मध्यप्रदेश के कुछ मजदूरों के साथ. जिन्होनें करीब पन्द्रह साल तक अपनी किस्मत के चमकने का इंतजार किया और जब किस्मत चमकी तो हाथ में आ गया करीब चालीख की कीमत का हीरा. दरअसल मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के पन्ना जिले में 15 साल के इंतजार के बाद एक खदान से चार मजदूरों को 8.22 कैरेट का हीरा मिला है जिसकी कीमत लगभग 40 लाख रुपये बताई जा रही है. अधिकारियों के अनुसार, सभी कच्चे हीरों की नीलामी से होने वाली आय सरकारी रॉयल्टी और करों की कटौती के बाद संबंधित मजदूरों को दी जाएगी.

पन्ना कलेक्टर संजय कुमार मिश्रा के मुताबिक रतनलाल प्रजापति और उनके सहयोगियों ने जिले के हीरापुर तपरिया इलाके में पट्टे पर दी गई जमीन से 8.22 कैरेट का हीरा निकाला और उसे हीरा कार्यालय में जमा कर दिया. उन्होंने कहा कि हीरे को अन्य रत्नों के साथ 21 सितंबर को नीलामी के लिए रखा जाएगा.

Pulwama : पुलवामा में फिर आतंकी हमला, ग्रेनेड के जरिए बनाया सुरक्षाबलों को निशाना

रत्नलाल प्रजापति के सहयोगियों में से एक रघुवीर प्रजापति ने कहा कि उन्होंने हीरे खोजने की अपनी खोज में पिछले 15 साल विभिन्न खदानों में उत्खनन में बिताए हैं, लेकिन भाग्य उन पर पहली बार मेहरबान हुआ है. उन्होंने कहा कि हमने पिछले 15 साल से अलग-अलग इलाकों में छोटी-छोटी खदानें लीज पर लीं, लेकिन एक भी हीरा नहीं मिला. उन्होंने कहा कि इस साल, हम पिछले छह महीनों से हीरापुर तपरिया में एक पट्टे की जमीन पर खनन कर रहे हैं और 8.22 कैरेट वजन का हीरा पाकर सुखद अनुभव हुआ.

वो कहते हैं कि वह और उसके साथी हीरे की नीलामी से मिले धन का उपयोग अपने बच्चों को बेहतर जीवन और शिक्षा प्रदान करने के लिए करेंगे. वहीं अधिकारियों के मुताबिक, कच्चे हीरों की नीलामी से होने वाली आय संबंधित खनिकों को सरकारी रॉयल्टी और करों की कटौती के बाद दी जाएगी.

अधिकारियों के मुताबिक भोपाल (Madhya Pradesh) से 380 किलोमीटर दूर स्थित पन्ना जिले में कुल 12 लाख कैरेट के हीरे होने का अनुमान है. उन्होंने बताया कि मजदूरों को मिले नवीनतम कीमती पत्थर और 139 अन्य हीरों की नीलामी 21 सितंबर से शुरू होगी.